Latest News Uttarakhand

‘भेल की जमीन पर कब्जे की मुहर लगा गए अमित भाई’

IMG_20160415_175512

‘भेल की जमीन पर कब्जे की मुहर लगा गए अमित भाई’
— भेल की तीन बीघा जमीन पर बनाया अम्बेडकर पार्क
— अमित शाह को बुलाकर कराया मूर्ति पर माल्यार्पण
— पीएमओ को चिट्टी लिख बीएचईएल बना मूकदर्शक
एसके तिवारी, एमएस नवाज।
हरिद्वार। अंबेडकर जयंती पर भेल की जमीन पर आयोजित कार्यक्रम में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित भाई शाह को बुलाकर स्थानीय भाजपा नेताओं ने भेल की तीन बीघा जमीन पर कब्जे का रास्ता साफ कर लिया। इस जमीन पर पहले से मौजूद अंबेडकर की मूर्ति के साथ ही नई मूर्ति स्थापित कर दी गई। हालांकि भेल प्रबंधन ने प्रधानमंत्री कार्यालय और अमित शाह के आॅफिस को इस प्रयास के बारे में दो दिन पहले ही जानकारी दे दी थी। बावजूद इसके अमित शाह कार्यक्रम में पहुंचे और उनके जाने के बाद जमीन पर अतिक्रमण की मुहर लग गई। केंद्र में भाजपा की सरकार होने और उसके सिपेहसलार अमित भाई के अतिक्रमण करने वाली जगह पर पहुंचने के बाद भेल प्रबंधन अब पशोपेश में हैं। आखिर अपनी जमीन को अतिक्रमण मुक्त कराए तो कराए कैसे।
14 अप्रैल को भेल सेक्टर—वन स्थित कड़च्छ के पास भेल की करीब तीन बीघा जमीन पड़ी है। इस जमीन पर पहले ही अंबेडकर की मूर्ति स्थापित की गई है। लेकिन, इससे शेष पड़ी जमीन पर कब्जे की मंशा पूरी नहीं हो पा रही थी। 14 अप्रैल को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को भाजपा नेता सतपाल महाराज के कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए हरिद्वार आना था। इस के चलते भाजपा जिलाध्यक्ष सुरेश राठौर की ओर से भेल की जमीन पर कार्यक्रम आयोजित किया गया और एक नई मूर्ति स्थापित कर दी गई। इस मूर्ति का अनावरण अमित शाह को करने के लिए न्यौता दिया गया। वहीं अपनी जमीन पर कब्जे की पूरी रूपरेखा बनने के बाद भेल प्रशासन ने दो दिन पहले ही प्रधानमंत्री कार्यालय, अमित शाह के कार्यालय और जिला प्रशासन को पत्र लिखकर इस पूरे षड़यंत्र की जानकारी दे दी थी। बावजूद इसके अमित शाह कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे। हालांकि, उन्होंने नई मूर्ति के बजाए पुरानी मूर्ति पर माल्यार्पण किया और वहां से निकल गए। नई मूर्ति स्थापित होने के बाद जमीन पर अतिक्रमण का रास्ता साफ हो गया। इतना ही नहीं अमित शाह के आने के बाद अब भेल प्रबंधन और प्रशासन भी पीछे हट गया है। भेल प्रबंधन की जमीन पर हुए अतिक्रमण ने भेल प्रबंधन की पोल खोल कर रख दी है। गरीबों की झोपड़ियों पर कड़ाके की सर्दी में बुल्डोजर चलाने वाले भेल प्रबंधन को अब तीन बीघा जमीन पर कब्जे को मुक्त कराने पर सांप सूंघ गया है। क्योंकि मामला सीधे केंद्र सरकार और उसके खास सिपेहसलार अमित शाह से जुड़ गया है। क्या भेल अपनी जमीन को खाली करा पाएगा, ये बड़ा सवाल है।

क्या कहते हैं अधिकारी
हमने कार्यक्रम से दो दिन पहले ही पीएमओ और अमित शाह कार्यालय  को सूचना दे दी थी। प्रशासन को भी इस बारे में शिकायत की गई थी। जमीन पर कब्जे को मुक्त कराने के प्रयास जारी हैं। हमने रानीपुर थाने में भी शिकायत की है।
सुधीर अग्रवाल, जीएम, एचआर, बीएचईएल, हरिद्वार।

क्या कहते हैं भाजपा के जिलाध्यक्ष
ये जमीन हमारी है, कई सालों से इस पर हमारा कब्जा है। हमने भेल
की जमीन पर कोई कब्जा नहीं किया है। अमित शाह अपने तय कार्यक्रम के तहत ही आए थे। इसमें कोई विवाद की स्थिति नहीं है।
सुरेश राठौर, भाजपा जिलाध्यक्ष, हरिद्वार।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.