Breaking News Haridwar Latest News Uttarakhand Viral News

रंगबाज़ गैंगस्टरों की सोशल दुनिया: फेसबुक-इन्स्टाग्राम बना नया हथियार, कौन कर रहा वायरल

कुणाल दरगन।

जरायमपेशा कर खासोआम में ख़ौफ़ पैदा करने वाले कुख्यात गैंगस्टर अब सोशल मीडिया पर रंगबाजी कर रहे हैं। सोशल साईट्स जैसे फेसबुक और इंस्टाग्राम पर ये पेज बनाकर आने नाम का डंका बजवा रहे हैं। इनमें दिल्ली, पंजाब के अलावा उत्तर ओरदेश और उत्तराखंड में हत्या और चौथ वसूली करने वाले बदमाश शामिल है। सोशल मीडिया पर ये कुख्यात अपनी प्रोफाइल अपडेट करते या कराते है, अपनी जाति का उल्लेख कर भावनाओं को कैश करने का काम करते है। यही नही अदालतों में पेशी के दौरान इनके गुर्गे इनके वीडियो बनाकर म्यूजिक के साथ सोशल मीडिया पर वायरल कर रहे हैं। कुल मिलाकर जेल में बंद रहकर भी ये सोशल मीडिया के जरिये अपने नेटवर्क को फैला रहे हैं, जो पुलिस के लिए किसी चुनौती से कम नही है।

फिलवक्त कुख्यात सुनील राठी और संजीव माहेश्वरी उर्फ जीवा अपराध की दुनिया के दो बड़े नाम हैं लेकिन सुनील राठी का चेला प्रवीण वाल्मीकि भी अब गुरु की रहा चल पड़ा है । उत्तर प्रदेश के माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल मे हत्या कर राठी बड़ा नाम बन चुका है।सोशल मीडिया पर नजर डालें तो दिल्ली की तिहाड़ जेल मे बंद कुख्यात सुनील राठी के नाम से फेसबुक पर कई अकाउंट देखने को मिलते हैं ।यही नहीं सुनील राठी के नाम पर फेसबुक पर पेज भी बने हुए हैं ।बकायदा सुनील राठी ग्रुप और राठी फैन क्लब भी फेसबुक पर नजर आते हैं।

सुनील राठी की फेसबुक वॉल पर जाति की बखान भी देखने को मिलता है। राठी के अलावा उसी से जुड़ा रहा कुख्यात अमित मलिक पूर्व भूरा के फेसबुक पर 10 अकाउंट हैं ,उसके भी सोशल मीडिया पर फॉलोअर्स की फौज है और भूरा के नाम के पेज भी फेसबुक पर मौजूद है ।यही नहीं दिल्ली के कुख्यात माफिया डॉन नीरज बवाना के तो फेसबुक पर 35से अधिक अकाउंट है ।फिल्म स्टार सलमान खान को हत्या की धमकी देने वाले पंजाब राजस्थान के गैंगस्टर लॉरेंस विश्नोई के नाम 40 फेसबुक अकाउंट देखने को मिलते हैं। यह सभी क्रिमिनल फेसबुक के अलावा इंस्टाग्राम पर भी सक्रिय है ।

जेल की ऊंची ऊंची दीवारों के पीछे बैठकर अपने अपने गैंग की बागडोर संभाले हुए हैं। जेलों में मोबाइल फोन का इस्तेमाल तो मामूली सी बात है लेकिन अपने इरादे और अपने तेवरों की झलक यह सोशल मीडिया की मदद से दिखा रहे हैं, जिससे कि आमजन में इनका खौफबना रहे। दिलचस्प बात यह है कि किसी सेलिब्रिटी की तरह ही इन क्रिमिनल्स के भी फॉलोवर्स हैं ,जो इनके सोशल मीडिया अकाउंट पर जुड़े हुए हैं या फिर कमेंट करके अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हैं।

गूगल बाज हो चुके यह क्रिमिनल सोशल मीडिया पर शायरी भी बखूबी करते हैं और भक्ति में भी लीन होने की बात का दम भरते हैं। कुख्यात जीवा,प्रवीण वाल्मीकि एवं सुशील मूंछ सोशल मीडिया पर बिल्कुल भी एक्टिव नहीं है। दबी जुबान में तो पुलिस अफसर भी स्वीकारते हैं कि सोशल मीडिया की बदौलत अपराधी अपराध को अंजाम दिलवा रहे हैं लेकिन इन पर नकेल कसने की कवायद सिरे नहीं चढ़ पाती क्योंकि एक अकाउंट को अगर बंद करने पर पुलिस फोकस करती है तो तुरंत ही दूसरा अकाउंट बनकर तैयार हो जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.