Breaking News Haridwar Kumbh Mela 2021 Latest News Uttarakhand Viral News

मुआवजा धांधली: बिना अधिग्रहण किए दे दिया मुआवजा, फाइलों में गुम हरकी पैडी विस्तार प्रोजेक्ट

रतनमणी डोभाल।
दुनियाभर से हरिद्वार आने वाले करोड़ों श्रद्धालुओं को देखते हुए विश्व प्रसिद्ध हरकी पैडी के विस्तार की योजना फाइलों में गुम हैं। आलम ये है कि 2010 में हरकी पैडी के विस्तार के लिए कांगडा मंदिर के प्रबंधकों को एक करोड़ 57 लाख रुपए मुआवजा भी जारी कर दिया गया। लेकिन, आज तक वहां की जमीन का अधिग्रहण नहीं हो सका। यही नहीं प्रशासन को ये भी नहीं पता कि जिन लोगों को मुआवजा दिया गया वो असली हकदार थे या ​नहीं। क्योंकि इस मामले में भी कई बार स्थानीय लोग सवाल उठा चुके हैं। वहीं 2007 में विस्तारीकरण की बनी योजना के लिए दस करोड़ रुपए जमीन अधिग्रहण के लिए रखे गए और भू—अध्याप्ति अधिकारी को ये बजट जारी भी किया गया। लेकिन 2010 में बात आगे नहीं बढ़ पाई। Harki Pauri
इसके बाद 2016 के कुंभ में भी विस्तारीकरण पर चर्चा हुई और योजना के लिए कांगड़ा मंदिर, बृज लॉज और कपूरथला हाउस तक के इलाके के अधिग्रहण के लिए मुआवजा की राशि बढाकर 17 करोड़ कर दी गई। लेकिन ये सब फाइलों में होता रहा जमीन पर ना तो अफसरों ने कोशिश की और ना ही पुरोहित समाज ने ही इसमें जागरूकता दिखाई।
वहीं दूसरी ओर 2021 के कुंभ की तैयारियों से पहले भी मेलाधिकारी दीपक रावत ने एक बार फिर श्रद्धालुओं की संख्या को देखते हुए हरकी पैडी विस्तार की योजना पर काम शुरू किया। इस संबंध में 2018 में आला अधिकारियों के साथ बैठक भी हुई। लेकिन फिर कुंभ की तैयारियों के बीच ये काम लटक गया। हालांकि मेलाधिकारी दीपक रावत ने हरकी पैडी विस्तार के लिए 2010 में दिए गए मुआवजे की फाइलें अधिकारियों से मंगाई और इसकी जांच कराकर जमीन अधिग्रहण का काम पूरा करने के दावे किए। लेकिन, तमाम तैयारियों के बाद भी इस कुंभ में भी हरकी पैडी के विस्तारीकरण का काम लटक गया।
उत्तराखण्ड सिंचाई खंड हरिद्वार के अधिशासी अभियंता डीके सिंह ने बताया कि जो मुआवजा दिया जा चुका है, उसका कब्जा लेने की प्रक्रिया के निर्देश उपराजस्व अधिकारी को दे दिया गया है। जल्द ही इसमें नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। वहीं गंगा सभा के पूर्व महामंत्री पंडित रामकुमार मिश्रा ने बताया​ कि गंगा सभा भी चाहती है कि विस्तार किया जाए। लेकिन, उसके विस्तार इस रूप में किया जाए कि घाट का प्रबंध करने में गंगा सभा को कोई दिक्कत ना हो। क्योंकि हरकी पैडी घाट का प्रबंधक गंगा सभा ही करती आ रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.