baba ramdev launch double fortified salt in haridwar
Breaking News health Latest News Uttarakhand

बाबा रामदेव ने डबल फोर्टिफाइड नमक खाएगा ​इंडिया, जानिये क्या है खूबी

ब्यूरो।
स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रलय, भारत सरकार द्वारा संचालित खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण द्वारा सम्पूर्ण भारतवर्ष में स्वस्थ भारत यात्रा ‘ईट राइट इंडिया’ कार्यक्रम के अन्तर्गत आयोजित साइकिल रैली का कारवाँ बुधवार को पतंजलि योगपीठ पहुँचा। इस अवसर पर पतंजलि योगपीठ-। के आयुर्वेद भवन में एक कार्यक्रम का आयोजन कर पतंजलि का डबल फोर्टिफाईड नमक को लॉंच किया। baba ramdev launch double fortified salt in haridwarबाबा रामदेव ने कहा कि मनुष्य में रोगों के दो मुख्य कारण हैं- इनमें पहला कारण आनुवांशिक तथा दूसरा शरीर में विजातीय या विकारी तत्त्वों का एकत्र होना या किसी भी कारण से आवश्यक तत्त्वों का शरीर से बाहर निकलना है। ज्यादातर कम्पनियों का ध्यान अपने उत्पादों को ज्यादा से ज्यादा विक्रय करने पर केन्द्रित है, खाद्य पदार्थों में आवश्यक तत्त्वों की कमी की ओर उनका ध्यान ही नहीं जाता। कम्पनियाँ ये ही नहीं बताना चाहती कि उनके उत्पाद में कौन-कौन से तत्त्व मौजूद हैं। सैक्रेड फार्मुलेशन के नाम पर लोगों को अनजाने में ही रासायनिक तत्त्वों की लत डाली जा रही है। आहार के नाम पर लोगों को बन्धक बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पतंजलि योगपीठ देशवासियों को स्वस्थ व स्वदेशी खाद्य उत्पाद उपलब्ध कराने के लिए संकल्पबद्ध है। पतंजलि आयुर्वेद के माध्यम से देश में ही नहीं अपितु पूरे विश्व में शुद्ध, स्वस्थ व उच्च गुणवत्तायुक्त खाद्य उत्पाद सुलभ कराने का कार्य पतंजलि योगपीठ ने किया है। उन्होंने खाद्य उत्पाद में फोटिफिकेशन को भारतीय खाद्य सुरक्षा व मानक प्राधिकरण ( एफ.एस.एस.ए.आई.) द्वारा उठाया गया एक सराहनीय एवं वैज्ञानिक कदम बताया जिससे कि विटामिन मिनरल्स एवं माइक्रोन्यूट्रिएंट की कमी से होनी वाली बिमारियाें को आसानी से रोका जा सकता है।
कार्यक्रम में आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि अमेरिका में 96 प्रतिशत फूड प्रोसेस होता है, थाइलैण्ड जैसे देश में 60 प्रतिशत फूड प्रोसेस होता है जबकि भारत में मात्र 6 से 8 प्रतिशत ही फूड प्रोसेस होता है। देश के शुरू किए 60 मेगा फूड पार्कों में से केवल पतंजलि फूड पार्क का ही सफल संचालन हो रहा है। आज खाद्य पदार्थों में पौषकता का अभाव है। इसका मुख्य कारण रासायनिक खेती है। इससे कृषि उत्पादों की गुणवत्ता पर असर पड़ा है। उन्होंने फोर्टिफिकेशन शब्द को परिभाषित करते हुए कहा कि खाद्य पदार्थ के स्वाद में परिवर्तन किए बगैर उसमें पौषक तत्वों का समावेश करना फोर्टिफिकेशन कहलाता है। पतंजलि नमक में आयोडिन के साथ आयरन का भी समावेश किया गया है, अतः देश में पतंजलि का यह पहला डबल फोर्टिफाईड नमक है। उन्होंने कहा कि आज मेडिकल साइंस कि उपलब्ध रिर्पोर्ट्स एवं सर्वे के आधार पर पाया गया है कि मुख्यतः विटामिन-डी, ए, आयरन, फोलिक एसिड की कमी बहुत से रोगों का कारण है। पतंजलि की फोटिफाइड प्रोडक्ट के उत्पादन की प्रक्रिया पूर्ण रूप से एफ.एस.एस.ए.आई. के मानदण्डों पर आधारित एवं क्वालिटी व फूड सेफ्रटी मैनेजमेंट सिस्टम के मानकों के अनुसार है। हमारी सभी निर्माण इकाइयों में फोटिफिकेशन की प्रक्रिया अत्यन्त वैज्ञानिक तरीके से जाँची एवं वैलिडेट की गई है। आचार्य जी ने कहा कि पतंजलि ऑर्गेनिक बायो फोर्टिफिकेशन पर भी कार्य कर रही है। जिससे तहत बीज में ही आवश्यक तत्त्वों जैसे- जींक, आयरन, विटामिन्स, माइक्रोन्यूट्रिएंट्स का समावेश कर बायो फोर्टिफाईड सीड तैयार किये जाएँगे। इस मौके पर डीएम दीपक रावत आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.