Breaking News Dehradun Haridwar Kumbh Mela 2021 Latest News Uttarakhand Viral News

भूमिगत विद्युतीकरण योजना: पैसा खत्म और काम अधूरा, मंत्रीजी की जिद से बिगड़ा बजट

रतनमणी डोभाल।
कुंभ 2021 Kumbh Mela Haridwar 2021 से पूर्व कुंभ क्षेत्र हरिद्वार को बिजली के तारों के जंजाल से मुक्त करने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की महत्त्वाकांक्षी अंडरग्राउंड विद्युत परियोजना पर संकट के बादल गहरा गए हैं। आलम ये है कि जितना बजट शहर के लिए पास किया गया था, उतना पैसा खर्च किया जा चुका है और अभी भी काफी काम किया जाना बाकी है। विभागीय सूत्रों की मानें तो ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि स्थानीय जनप्रतिनिधि ने दबाव डलवाकर वहां भी काम करवा दिया जहां नहीं किया जाना चाहिए था और जो डीपीआर का हिस्सा भी नहीं था।
विभाग के मुताबिक कुंभ का मुख्य क्षेत्र उत्तरी हरिद्वार में भीमगोडा, सप्तऋषि, भूपतवाला क्षेत्र में कई आश्रम तथा आवासीय कॉलोनियों गंगा विहार, जसविंदर इन्कलेव, संगम पुरी आदि में अंडरग्राउंड विद्युतीकरण का काम नहीं किया जा रहा है। Under Ground Electricity Line in Haridwar
कुंभ क्षेत्र में अंडरग्राउंड विद्युतीकरण की परियोजना 310 करोड़ रुपए लागत की थी। यूपीसीएल का दावा है कि 310 का काम हो चुका है। अंडरग्राउंड विद्युतीकरण से वंचित क्षेत्र के लिए यूपीसीएल ने 70 करोड़ का एक नई डीपीआर तैयार की है। अगर केंद्र सरकार ने स्वीकृत कर धनराशि अवमुक्त की तो कुंभ योजना में शामिल वंचित क्षेत्र में कुंभ के बाद अंडरग्राउंड विद्युतीकरण परियोजना का अधूरा काम पूरा कराया जाएगा। यूपीसीएल के सहायक अभियंता जयदीप ने बताया कि अंडरग्राउंड विद्युतीकरण परियोजना का कुंभ के पेशवाई मार्ग तथा मेन रोड का काम पूरा हो चुका है। हर की पैड़ी क्षेत्र में बड़ा बाजार, मोती बाजार, भीमगोडा, खड़खड़ी और भूपतवाला क्षेत्र छूट गया है। इन क्षेत्रों के लिए नई डीपीआर ऊर्जा भवन को भेज दी गई है। स्वीकृति मिली तो कुंभ के बाद वंचित क्षेत्र में अंडरग्राउंड विद्युतीकरण का अधूरा काम पूरा किया जाएगा।

———-
मंत्री की जिद के चलते लटका काम
एक अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि अंडरग्राउंड विद्युतीकरण परियोजना की स्वीकृत डीपीआर के अनुसार काम नहीं हुआ है। मंत्री ने स्वीकृत डीपीआर के विपरीत काम करने का दवाब बनाया तथा जहां लाइन नहीं डालनी थी वहां भी डलवाई इसलिए डीपीआर में सम्मिलित महत्वपूर्ण क्षेत्र अंडरग्राउंड होने से छूट गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.