Breaking News Haridwar Latest News Uttarakhand Viral News

नगर निगम हरिद्वार के इस खाते में डालें आर्दिक मदद, पांच हजार राशन पैकेट मुफ्त बांटेगा जिला प्रशासन

चंद्रशेखर जोशी।
गरीब असहाय और दिहाडी मजदूरों को लेकर जिला प्रशासन और नगर निगम हरिद्वार ने फिर महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं। नगर निगम ने आर्थिक मदद के लिए एक खाता नंबर शेयर किया हैं जिसमें हरिद्वार और दूसरे जनपदों से लोग आर्थिक मदद इस खाते में डाल सकते हैं। नगर निगम हरिद्वार लगातार हरिद्वार में गरीब और असहाय लोगों को फूड पैकेट और राशन वितरित कर रहे हैं।


एसएनए उत्तम सिंह नेगी ने बताया कि एक्सिस बैंक के खाते में पैसे डालने के लिए 01334—227006 पर ज्यादा जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। खाते में दान डालने के बाद इसी नंबर पर कंफर्म भी कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि अभी तक कर्मचारियों और अफसरों ने पैसा एकत्र कर गरीबों को पैकेट बांटे हैं। सामुदायिक सहभागिता के लिए नगर निगम ने खाते में लोगों से मदद की अपील की है।

 
——————
प्रशासन भी करा रहा 5000 फूड पैकेट तैयार
जिला प्रशासन की ओर से खाद्य पूर्ति विभाग को पांच हजार राशन पैकेट तैयार करने के लिए कहा है। जिला सूचना अधिकारी अर्चना ​सिंह ने बताया कि दिहाडी मजदूरों और असहाय लोगों के लिए पांच हजार राशन के फैकेट तैयार कराए जा रहे हैं। इनकों चिन्हित कर बांटा जाएगा। इसमें पांच किलो आटा, तीन किलो चावल, एक किलो दाल, एक किलो तेल, नमक, मिर्च, हल्दी और चीनी भी होगा। जिला प्रशासन के आंकडों के अनुसार 36659 दिहाडी मजदूर पंजीकृत हैं जिनमें निर्माण श्रमिकों की संख्या 12601 हैं। जिला प्रशासन ने बताया कि बैंक द्वारा 2384 श्रमिकों के खातों में पैसे पहुंचाए गए हैं। जिनके खाते नहीं हैं उनके भी संपर्क करने का प्रयास किया जा रहा है।

—————
ज्वालापुर में पार्षद ने भी बांटा राशन


ज्वालापुर के वार्ड 41 के पार्षद इसरार अहमद ने भी अपने निवास पर वार्ड में रहने वाले गरीब और असहाय लोगों को राशन वितरित किया। पार्षद इसरार अहमद ने बताया कि वार्ड में रहने वाले लोगों को समस्या ना हो इसके लिए राशन बांटा गया है। इसमें आटा, दाल, चीनी और चावल व अन्य समान दिया गया है। सभी का ख्याल रखा जा रहा है। किसी भी स्थिति में हम अपने लोगों की सहायता करने के लिए तैयार है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.