suspected monkey pox case in haridwar but found chicken pox by health department

मंकी पॉक्स: हरिद्वर में संदिग्ध मरीज मिलने की सूचना, जांच में कुछ ओर निकला मामला

अतीक साबरी।
उत्तराखण्ड के हरिद्वार जिले के रूडकी में मंकीपॉक्स का संदिग्ध मरीज मिलने की सूचना से हड़कंप मच गया। वहीं जांच मे युवक मंकीपॉक्स नहीं बल्कि चिकन पॉक्स का निकला। फिलहाल, स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मरीज को आइसोलेट कर दिया है और उसका इलाज किया जा रहा है। खतरे से कोई बात नहीं है। suspected monkey pox case in haridwar but found chicken pox by health department
जानकारी के अनुसार शनिवार को मोहम्मदपुरा क्षेत्र में 34 वर्षीय युवक एक स्टील फैक्ट्री में काम करता है। तबियत खराब होने पर मरीज एक निजी अस्पताल में गया। युवक के शरीर पर दाने बन रहे थे और बुखार भी थी। मंकीपॉक्स जैसे लक्षण दिखने के लिए इसकी सूचना स्वास्थ्य विभाग को दी गई। लेकिन स्वास्थ्य विभाग ने इसे मंकीपॉक्स नहीं बल्कि चिकनपॉक्स पाया।
सीएमओ डा. कुमार खगेंद्र सिंह ने बताया कि मजदूर की कोई ट्रैवल हिस्ट्री नहीं है और लक्षण भी मंकीपॉक्स जैसे नहीं है। जांच में लक्षण चिकनपॉक्स की तरह है। चिकनपॉक्स की वैक्सीन उपलब्ध है और स्वास्थ्य विभाग इस पर एक्शन भी ले रहा है। घबराने वाली कोई बात नहीं है।

——————————
क्या होता है चिकन पॉक्स
चिकन पॉक्स (Chicken Pox in Hindi) मुख्यतः वैरिसेला नामक वायरस से फैलता है, और सामान्यतः बच्चों को व्यस्कों की तुलना में अधिक प्रभावित करता है। चिकन पॉक्स को छोटी माता या चेचक के नाम से भी जाना जाता है। आमतौर पर चिकन पॉक्स दिसम्बर माह से फरवरी माह तक (December to spring) सबसे ज्यादा फैलता है और कई बार यह संक्रमण सालभर रहता है। चिकन पॉक्स के मुख्य लक्षणों (Symptoms of Chicken Pox in Hindi) में मुख्यतः छोटे छोटे, द्रव से भरे फफोले के साथ खुजली होना सम्मलित हैं ।
चिकन पॉक्स को आयुर्वेद में लघु मसूरिका के नाम से भी जाना जाता है क्यूंकि इसमें मसूर के दाल के साइज़ के छोटे छोटे दाने मरीज के शरीर पर हो जाते हैं। यद्धपि यह एक खतरनाक बीमारी है परन्तु अगर सही समय पर इसके लक्षणों की पहचान करके इसका सही इलाज (Chicken Pox Treatment in Hindi) करा लिया जाये तो यह आसानी से ठीक हो जाती है और जान का खतरा नहीं रहता।

——————————
क्यों होता है चेचक
चिकन पॉक्स फ़ैलने का मुख्य कारण (Symptoms of Chicken Pox in Hindi) वैरिसेला-ज़ोस्टर वायरस होता है, परन्तु यह एक संक्रामक रोग है जो संक्रमण से फ़ैलता है। चिकन पॉक्स (Chicken Pox in Hindi) एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में खाँसने ,छींकने हाथ मिलाने, थूकने, फोड़े-फुंसी से निकले द्रव, कपड़े इत्यादि के सम्पर्क में आने से फ़ैलता है। यद्धपि चिकन पॉक्स व्यस्कों की अपेक्षा बच्चों को अधिक होता है फिर भी यह व्यस्कों में हो सकता है यदि- उन्हें पहले कभी चिकन पॉक्स नहीं हुआ हो या चिकन पॉक्स के लिए टीकाकरण न कराया हो अगर आपको बचपन में चिकन पॉक्स हो चुका है तो भविष्य में इसके होने की सम्भावना न के बराबर होती है या 99 % आपको यह रोग दुबारा नहीं होगा क्यूँकि इसके एक बार हो जाने के बाद हमारे शरीर में इस रोग के लिये प्रतिरोधक शक्ति उत्पन्न हो जाती है।

———————————————
चिकन पॉक्स के लक्षण
सामान्यतः चिकन पॉक्स संक्रमण वायरस के संपर्क में आने के 10 से 21 दिन तक होता है और 5-10 दिन तक रहता है। छोटे, द्रव से भरे फफोले के साथ खुजली होना इसका मुख्य लक्षण है, इसके अतिरिक्त इसके लक्षण बच्चों और व्यस्कों में अलग अलग होते हैं। चिकन पॉक्स के सामान्य लक्षण- Symptoms of Chicken pox in Hindi इस प्रकार हैं-

बुखार (Fever in Hindi)
दाने के साथ चक्कर आना
तेज़ दिल की धड़कन
सांस की तकलीफ
झटके/दौरे पड़ना
मांसपेशियों के समन्वय की कमी
थकान/कमजोरी (fatigue meaning in hindi)
खाँसी बढ़ना
उल्टी- Vomiting
गर्दन में कठोरता महसूस करना इत्यादि

खबरों को वाट्सएप पर पाने के लिए हमे मैसेज करें : 8267937117

Share News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!