Breaking News Haridwar Latest News Uttarakhand

हरिद्वार: मंदी की मार झेल रहा पेंटागन मॉल, कई दुकानों पर लटका ताला

चंद्रशेखर जोशी।
हरिद्वार में रोशनाबाद स्थित पहला शॉपिंग मॉल जबरदस्त मंदी की मार झेल रहा है। पिछले एक साल में हालात ये हो गए कि पेंटागन मॉल में चल रही कई दुकानों पर ताला लटका दिया गया। जो चल रही है उनमें कुछ बंडी कंपनियों के आउटलेट हैं जो अभी खर्चा उठा पा रहे हैं जबकि स्थानीय व्यापारियों की हालत लगातार खराब हो रही है। 2012 में तैयार हुए इस मॉल में करीब चार सौ दुकानें तैयारी की गई थी, जिनमें से महज दौै सौ दुकानें ही बिक या किराए पर चढी, जिनमें से सिफ पचास प्रतिशत ही चालू हालत में हैं। इनमें से कई दुकानों पर ताला लटक चुका है, जो चल रही है वो भी भारी मंदी की मार झेल रही है।


स्थानीय व्यापारी नेता संजीव चौधरी ने बताया कि पेंटागन मॉल हरिद्वार का पहला शॉपिंग मॉल है लेकिन इसकी शुरूआत से ही ये बहुत ज्यादा लोगों को आकर्षित नहीं कर पाया। पिछले कुछ समय से तो हालात लगागतार खराब हो रहे हैैं। उन्होंने बताया कि यहां का किराया ज्यादा होने के कारण व्यापारी मॉल में इनवेस्ट करने से कतराते हैं जबकि मॉल में आने वाले लोगों की संख्या लगातार गिर रही है। रिलांयस जैसी कंपनियों के आउटलेट होने के कारण कुछ रौनक बरकरार है। अगर रिलांयस पेंटागन मॉल से अपने हाथ खींच ले तो इस पर ताला लग जाएगा।

——————
सेल्फी प्वाइंट बना पेंटागन मॉल
पेंटागन मॉल में ​अधिकतर युवा सिर्फ सेल्फी लेने के लिए पहुंच रहे हैं। कुछ वेव सिनेमा तो कुछ पिजा—बर्गर के लिए पहुंच जाते हैं। स्थानीय युवा योगेश पांउेय ने बताया कि पेंटागन मॉल में अब ज्यादा दुकानें नही हैैं। यहां चंद शौ रूम हैं जिनमें चल रही छूट के कारण लोग यहां आ जाते हैं। कुछ सेल्फी के शौकीन तोे कुछ फिल्मों के शौकीन यहां आ जाते हैं। इसमें कोई दो राय नहीं कि यहां आने वाले लोगों की संख्या लगातार घट रही है। जिन दुकानों पर ताला लटका है वो इसका जीता जागता उदाहरण है।

2 Replies to “हरिद्वार: मंदी की मार झेल रहा पेंटागन मॉल, कई दुकानों पर लटका ताला

  1. 10 रुपए वाले पॉपकॉर्न 100 में देंगे , 20 रुपए वाली कोल्ड्रिंक 110 में देंगे तो क्या घण्टा आएगा कोई सभी चीजों के दाम 20 गुना से ज्यादा है वहाँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.