सरकारी गेस्टहाउस में रुके थे हरिद्वार की सबसे बड़ी डकैती करने वाले बदमाश

K.D.

हरिद्वार के सबसे वीआईपी इलाके से दिनदहाड़े करोड़ों रुपए के जेवरात लूटकर शहर में सनसनी मचा देने वाले डकैत रुड़की के एक सरकारी गेस्ट हाउस में ठहरे थे । शुक्रवार की देर रात रुड़की के एक क्षेत्र की घेराबंदी के बाद यह हकीकत निकल कर सामने आई है। डकैती कांड से जुड़ी एक कड़ी भी पुलिस को मिली है जिसके बलबूते डकैतों को चिन्हित भी कर लिया गया है ,हालांकि पूरी वारदात का मास्टरमाइंड कोई दूसरा चेहरा ही बताया जा रहा है। रुड़की के बाद अब हरिद्वार पुलिस,एसटीएफ और एसओजी ने दिल्ली से लेकर वेस्ट यूपी के अलग-अलग शहरों में डकैतों की धरपकड़ के लिए डेरा डाल लिया है ।

ज्वालापुर क्षेत्र के शंकर आश्रम तिराहे के पास ज्वेलर्स शोरूम मोरा तारा में दिनदहाड़े डकैती की वारदात को अंजाम देकर आधा दर्जन से अधिक हथियारबंद बदमाश करोड़ों रुपए के जेवरात लेकर फरार हो गए थे। करोड़ों की डकैती की वारदात को लेकर देहरादून तक हल्ला मच गया था। डीआइजी गढ़वाल रेंज नीरू गर्ग ने शुक्रवार को हरिद्वार पहुंचकर पूरी वारदात के जल्द खुलासे के निर्देश अधीनस्थों के दिए थे।

इधर एसटीएफ को भी घटना के खुलासे की जिम्मेदारी दे दी गई है ।पुलिस की प्रारंभिक पड़ताल में सामने आया था कि डकैती में शामिल बदमाश शहर की अलग-अलग दिशाओं से होते हुए फरार हुए हैं। बहादराबाद टोल प्लाजा के एक सीसीटीवी कैमरा में दो बदमाशों के कैद होने के बाद पुलिस उनके पीछे पीछे चलती रही ।शुक्रवार की देर रात रुड़की की सिविल लाइन कोतवाली क्षेत्र के एक एरिया को पुलिस ने पूरी तरह से घेर लिया। कई घंटों बाद सामने आया कि एक सरकारी गेस्ट हाउस में सभी डकैत ठहरे थे और वारदात को अंजाम देने के बाद भी वहां पहुंचे थे। पुलिस ने गेस्ट हाउस मे डकैतों को ठहराने वाली कड़ी को जब हिरासत में लेकर पूछताछ की तब डकैतों के संबंध में पूरी जानकारी हरिद्वार पुलिस को मिल गई है। अब उसी जानकारी के आधार पर हरिद्वार पुलिस,एसटीएफ और एसओजी की अलग-अलग टीमें दिल्ली और वेस्ट यूपी में डकैतों की धरपकड़ के लिए हाथ पाव पटक रही है। ज्वालापुर पुलिस के सूत्रों की माने तो जल्द ही डकैतों को पकड़ लिया जाएगा।

Share News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!