बसपा से भाजपा में आए स्वामी के करीबी नेता को मिला दायित्व, भाजपा नेताओं ने ऐतराज जताया, पढें प्रमुख खबरें


करण खुराना/विकास कुमार।
मंत्री स्वामी यतीश्वरानंद के करीबी भाजपा नेता शीर्षराज सैनी के ज्वालापुर मंडी समिति का सभापति बनने पर भाजपा के नेताओं ने विरोध शुरु कर दिया है। भाजपा नेता और पूर्व मंडी अध्यक्ष संजय चोपडा ने प्रमुख सचिव कृषि को पत्र लिखकर विरोध जताया है और कहा कि उनका मामला हाईकोर्ट में चल रहा है। साथ ही चुनाव आचार संहिता के एनवक्त में नियुक्ति देनी भी आचार संहिता का उल्लघंन है।
वहीं दूसरे भाजपा नेताओं ने भी शीर्षराज सैनी को दायित्व दिए जाने पर नाराजगी जाहिर की है। एक वरिष्ठ नेता जो मंडी अध्यक्ष बनने की जुगत में लगे थे उन्होंने बताया कि पार्टी को सालों साल सींचने का काम हमने किया और बसपा से भाजपा में आए शीर्षराज सैनी को दायित्व दे दिया गया। शीर्षराज सैनी 2012 में बसपा के चुनाव चिन्ह से हरिद्वार ग्रामीण से चुनाव लड़े थे। लेकिन स्वामी यतिस्वरानंद इस चुनाव में जीत गए थे। शीर्ष राज सैनी तीसरे नंबर पर आए थे।भाजपा नेताओं का कहना है कि इस तरह से कार्यकर्ताओं का अपमान बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। वहीं इसी तरह की राय कुछ दूसरे भाजपा नेताओं ने भी रखी है। यही नहीं उन्होंने हाईकमान के सामने भी मसले को उठाने की बात कही है।

———————————————
हरीश रावत ने सरकार पर बोला हल्ला, आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप लगाया
उत्तराखंड पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने आननफानन आबकारी कमिश्नर बदलने, किसान आयोग, बाल संरक्षण आयोग, महिला आयोग, बदरीनाथ केदार मंदिर समिति, शिक्षा विभाग, सहकारिता विभाग और ऊर्जा विभाग  में की गई नियुक्ती, ट्रांसफर और प्रमोशन पर सवाल उठाए हैं। उनका आरोप है कि कोऑपरेटिव बैंकों में अब भी बैक डोर से नियुक्तियां जारी हैं। हरीश रावत ने कहा कि चुनाव आयोग ने आगामी चुनावों की तारीखों का एलान कर दिया। उत्तराखंड में आचार संहिता लागू है।कहा कि राज्य सरकार लगातार आचार संहिता का उल्लंघन कर रही है। हरीश रावत ने इन नियुक्तियों को आचार संहिता का खुला उल्लंघन बताते हुए चुनाव आयोग से संज्ञान लेने की बात कही।

—————————————
सीएम धामी ने भी किया पलटवार
वहीं सीएम पुष्कर सिंह धामी ने हरीश रावत के आरोपों का पलटवार करते हुए सभी आरोपों को बेबुनियाद बताया है और जनता को गुमराह करने का भी आरोप लगाया है। उन्होंने देहरादून में प्रेस वार्ता करते हुए सभी आरोपों को लेकर दमदार तरीके से पलटवार किया।

———————————————
बोर्ड बैठक में हुए हंगामे के बाद भाजपा पार्षदों ने दिया इस्तीफा
वहीं रुडकी नगर निगम की बोर्ड बैठक में हुए हंगामे के भाजपा के 14 पार्षदों ने जिलाध्यक्ष को इस्तीफा सौंप दिया है। हालांकि अभी इस्तीफे मंजूर नहीं हुए हैं। पार्षदों का आरोप है कि 40 में से 29 पार्षद भाजपा के हैं बावजूद इसके 16 पार्षद जो भाजपा के हैं उन्होंने कांग्रेस व अन्य दलों के साथ मिलकर विरोध पैदा किया और प्रस्ताव पास नहीं होने दिए। इससे नाराज पार्षदों ने ये कदम उठाया है। त्यागपत्र देने वालों में पार्षद पूनम, राजेश्वरी देवी, देवकी जोशी, मंजू भारती, नवनीत शर्मा, वीरेंद्र गुप्ता, सचिन चौधरी, विनीता रावत, अनूप राणा, शक्ति राणा, राजेश देवी, सपना धारीवाल, संजीव राय, अंकित चौधरी आदि पार्षद शामिल हैं।

———————————————————

रुद्रपुर में सामाजिक सोहार्द बिगाड़ने का किया गया प्रयास। एक बारात घर मे गाय और उसके बछड़े को काट कर फेंक दिया गया था। मामला आग की तरह फैल गया और लोग एकत्र हो गए। तभी बीजेपी विधायक राजकुमार ठुकराल भी मौके पर पहुंचे और बीजेपी विधायक राजकुमार ठुकराल की धक्का मुक्की करते हुए एक वीडियो भी वायरल हो रही है,एसएसपी के सामने विधायक ने लोगों को मारने का किया प्रयास। प्रतिबंधित पशु और उसके बछड़े का शव मिलने से हिंदूवादी संगठन एकत्र होगये थे। एसएसपी उधमसिंह नगर दिलीप सिंह कुंवर मय फ़ोर्स मौके पर पहुँचे और स्थिति को सम्भाला। एसएसपी ने बताया कि पोस्टमार्टम कर गाय और बछड़े को दफना दिया गया है। चौकी इंचार्ज को सस्पेंड किया गया है,पशु क्रूरता अधिनियम समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच आदेश दे दिए गए है।

Share News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!