rift in aam admi party in uttarakhand

कर्नल के जाने के बाद आप में घमासान, अब इस नेता को लेकर हुए बागावत तेज

विकास कुमार।
आम आदमी पार्टी के उत्तराखण्ड कप्तान कर्नल अजय कोठियाल के भाजपा में जाने के बाद आम आदमी पार्टी में बिखराव शुरु हो गया है। आप की हरिद्वार यूनिट में नरेश शर्मा का कद बढने के बाद कई दूसरे नेता चिंतित है और नरेश शर्मा की सक्रियता को देखते हुए हरिद्वार आप नेताओं में बगावत तेज हो गई है। वहीं नरेश शर्मा की दिल्ली में सीएम अरविंद केजरीवाल से बढती नजदीकियों के कारण भी हरिद्वार में बगावत तेज हो रही है।


हरिद्वार ग्रामीण से आप के चुनाव निशान पर चुनाव लडने वाले नरेश शर्मा की भेल ही जमानत जब्त हो गई हो लेकिन, उन्होंने लोगों के बीच में अपनी जगह बनाई है। चुनाव प्रबंधन की समझ और आम जनता में सक्रियता के कारण ही आम आदमी पार्टी ने नरेश शर्मा को हरिद्वार में संगठन की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी। जिम्मेदारी मिलने के बाद नरेश शर्मा लगातार सक्रिय है और जनहित के मुद्दों को उठाने का काम कर रहे हैं। लेकिन, नरेश शर्मा की ये अतिसक्रियता और दिल्ली में पैठ के कारण आम आदमी पार्टी दूसरे कई नेता और कार्यकर्ताओं में बगावत के सुर उभर रहे हैं।
हालांकि ये नाराजगी तभी शुरु हो गई थी जब नरेश शर्मा को जिम्मेदारी दी गई थी। लेकिन, कर्नल कोठियाल और भूपेश उपाध्याय सरीखे बडे चेहरों के आम आदमी पार्टी को छोडने के बाद बगावत तेज हो गई है। बताया जा रहा है कि कुछ नेताओं ने अपनी नाराजगी आलाकमान को बताई है लेकिन नरेश शर्मा की काबलियत और सक्रियता को देखते हुए फिलहाल नाराज नेताओं को पार्टी के हित में काम करने के लिए कहा गया है।

——————————————
कई कार्यकर्ता नरेश शर्मा से खुश
वहीं दूसरी ओर नरेश शर्मा को महत्वपूर्ण जिम्मेदारी मिलने के बाद कई नेता और कार्यकर्ता खुश भी हैं। एक कार्यकर्ता ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया कि नरेश शर्मा एक मेहनतकश नेता हैं और पार्टी के सामने लंबा संघर्ष हैं ऐसे में नरेश शर्मा सबसे बेहतर विकल्प हैं। उन्होंने बताया कि कुछ नाराजगी सब जगह होती है लेकिन अधिकतर सभी कार्यकर्ता नरेश शर्मा के साथ खडे हैं और हरिद्वार में पार्टी को मजबूत करने का काम कर रहे हैं।

Share News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!