हरिद्वारी लाल बयान से राजनीति गरमाई, क्या भाजपा को होगा नुकसान

विकास कुमार।

भाजपा के वरिष्ठ नेता अनिल बलूनी द्वारा पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को हरिद्वारी लाल कहने के मामले में हरिद्वार में राजनीति गरमा गई है। कांग्रेस के लोग हो चाहे भाजपा के या फिर अन्य दलों के सभी ने अनिल बलूनी के हरिद्वारी लाल बयान पर कड़ा ऐतराज जताया है। हालांकि भाजपा के नेता खुलकर नहीं बोल पा रहे हैं। लेकिन कांग्रेस के लोगों ने सोशल मीडिया पर मैं भी हरद्वारी लाल से अभियान चला दिया है। वही पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने भी हरिद्वारी लाल बयान पर टिप्पणी करते हुए अनिल बलूनी को दो टूक जवाब दिया। उन्होंने कहा कि हरिद्वार उत्तराखंड का महत्वपूर्ण हिस्सा है और मैं गन्ने की लड़ाई पर लड़ूंगा और उत्तराखंड के मंडुवे की भी।

वही हरिद्वार के युवा कांग्रेसी नेता वरुण बालियान ने कहा कि हरिद्वार के लोगों के प्रति भाजपा के नेता किस तरह की मानसिकता और नफरत रखते हैं अनिल बलूनी के बयान से यह साफ जाहिर हो रहा है। उन्होंने कहा कि समय के साथ पहाड़ मैदान की खाई खत्म हो गई थी। लेकिन भाजपा के नेता विघटनकारी मानसिकता के कारण इस मुद्दे को हवा देकर फिर से वोट बैंक की राजनीति करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि हरद्वारी लाल जैसे शब्दों का प्रयोग कर अनिल बलूनी ने हरिद्वार की पूरी जनता का अपमान किया है और जब तक वह अपने इस बयान से माफी नहीं मांगेंगे तब तक उनके खिलाफ हरिद्वार में आंदोलन किया जाएगा।

वहीं वरिष्ठ पत्रकार आदेश त्यागी ने बताया कि अनिल बलूनी का बयान बहुत ही निंदनीय है और अनिल बलूनी जैसे बड़े नेता जो कि भाजपा से राज्यसभा सांसद भी हैं को ऐसे बयानों से बचना चाहिए था। उनका बयान दर्शाता है कि हरिद्वार के लोगों और यहां के मुद्दों को उठाना हरद्वारी लाल बन जाता है। क्या हरिद्वार के लोग दोयम दर्जे के नागरिक हैं।

Share News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!