लॉ कर रही छात्रा को हुआ चार बच्चों के पिता से प्यार, शादी का दबाव बनाने पर शादीशुदा प्रेमी ने की हत्या

विकास कुमार।

वकालत की पढ़ाई कर रही छात्रा की हत्या के आरोप में पुलिस ने छात्रा के शादीशुदा प्रेमी को गिरफ्तार किया है। पुलिस में आरोपी प्रेमी को गिरफ्तार करते हुए बताया कि आरोपी से वकालत की थर्ड ईयर की छात्रा के पिछले 3 साल से संबंध थे जबकि आरोपी के चार बच्चे हैं। छात्रा उस पर शादी करने का दबाव बना रही थी जिस पर आरोपी ने अपने घर को टूटने से बचाने के लिए आरोपी प्रेमी ने छात्रा की गंगा में डूबा कर हत्या कर दी ।

घटना हरिद्वार जनपद के गंग नहर थाना क्षेत्र की है गंग नहर थाना प्रभारी प्रवीण सिंह कोश्यारी ने बताया सुशीला देवी पत्नी कुंवरपाल निवासी गांधी नगर रुड़की ने शिकायत में बताया कि अजय सैनी उर्फ बंटी पुत्र धूम सिंह निवासी किशनपुर थाना भगवानपुर ने उनके घर आकर उनकी पुत्री रितु को जान से मारने की धमकी दी। जिसके बाद से उनकी पुत्री लापता है। पुलिस ने जांच के बाद अजय सैनी को पूछताछ के लिए बुलाया लेकिन अजय सैनी पुलिस को लगातार गुमराह करता रहा। सीडीआर और सीसीटीवी फुटेज के बाद सबूत जुटाए गए और दोबारा अजय सैनी को पुलिस ने पूछताछ के लिए बुलाया जिसके बाद अजय सैनी ने अपना जुर्म कबूल कर लिया।

अजय सैनी ने पुलिस को बताया कि 1 सितंबर 2021 आजाद नगर रुड़की स्थित उसकी दुकान पर आई थी और शादी करने की जिद करने लगी। अजय सैनी शादी समारोह में फोटोग्राफी करने का काम करता है। तब आरोपी ने समझा-बुझाकर घर भेज दिया था लेकिन वह नहीं मानी और उसका फोन उठाकर ले गई। इसके बाद अजय अपना फ़ोन लेने ऋतु के घर चला गया जहां दोनों का झगड़ा हो गया।तभी अजय सैनी ने रितु की हत्या का प्लान बना लिया। वही रितु का शाम को फोन आया और वह उससे मिलना चाह रही थी। लिहाजा अजय सैनी रितु को लेकर गंग नहर मार्ग पर चला गया। शाम को अजय सैनी ने रितु को बीयर भी पिलाई और सुनसान जगह देखकर रात करीब 9:00 बजे दरगाह पीर बाबा से आगे कुछ दूरी पर उसने रितु को गंगा में धक्का दे दिया। धक्का देने से पहले अजय सैनी ने रितु को गिफ्ट की सोने की चैन और पेन्डेन्ट उसके गले से उतार लिया। पुलिस ने रितु का शव बरामद कर दिया है।

Share News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!