मेरे साथ न्याय नही हुआ, लेने जा रहे है ये फैसला, बोले कांग्रेस के सीनियर लीडर किशोर उपाध्याय, देखें वीडियो

Vikas Kumar.

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और चुनाव संचालन समिति के एवं सदस्य किशोर उपाध्याय ने अपनी काबिलियत के आधार पर न्याय ना होने की बात कही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को उत्तराखंड में स्थापित करने में अगर हरीश रावत का 90% योगदान है तो 10% योगदान उनका भी रहा होगा।

उन्होंने कहा कि उनके साथ न्याय नहीं हुआ है जब उनसे पूछा गया कि आप किस तरह के न्याय की बात कर रहे हैं तो उन्होंने कहा कि 2002 में चुनाव जीतने के बाद क्या उन्हें उनकी क्षमता के आधार पर कैबिनेट मंत्री नहीं होना चाहिए था। क्या कोई राज्यसभा सांसद या अन्य पद पर उनको नहीं होना चाहिए था। उन्होंने कहा कि वह सीधी सपाट राजनीति करते हैं और पहाड़ के रहने वाले आम से इंसान हैं। इसलिए उन्हें चाल प्रपंच और चातुर्य वाली राजनीति नहीं आती है। यही कारण है कि वह पीछे रह गए। हालांकि उन्होंने यह भी कहा इसके बावजूद पार्टी ने जितना उन्हें दिया वह संतुष्ट हैं और पार्टी के आभारी हैं। उन्होंने कहा कि आने वाले चुनाव में पार्टी को तय करना है कि वह किस तरह भाजपा के खिलाफ बने माहौल को अपने पक्ष में कर पाती है। क्योंकि भाजपा के खिलाफ माहौल है और अब यह कांग्रेस पर निर्भर है कि वह कितना बेहतर तरीके से इस माहौल को भुनाती है।

वही उन्होंने पुरोला से विधायक राजकुमार के भाजपा में जाने के सवाल पर कन्नी काटते हुए कहा कि इस बारे में मौजूदा प्रदेश अध्यक्ष ही बेहतर बता सकते हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सोच नहीं रही कि वह किसी दूसरी पार्टी में तोड़फोड़ करें। लेकिन लेकिन भाजपा ने इस काम में मास्टर डिग्री हासिल कर ली है और आज अटल बिहारी वाजपेई जो भाजपा के मार्गदर्शक व आदर्श हैं उनकी आत्मा दुखी हो रही होगी। उन्होंने कहां की वह जनाअधिकार वन अधिकार आंदोलन को चला रहे हैं और उत्तराखंड की जनता के हक हकूक के लिए लंबी लड़ाई लड़ रहे हैं।उन्होंने कहा कि सभी पार्टियों को उत्तराखंड की जनता को हितों को ध्यान में रखते हुए घोषणा पत्र तैयार करना चाहिए। जिसमें बिजली पानी और अन्य अधिकारों को मुफ्त दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि वह पार्टी में इस बात को प्रमुखता से रखेंगे कि उत्तराखंड की जनता को बिजली पानी मुफ्त दिया जाए।

Share News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!