uttrakhand this congress leader become religious leader
Breaking News Latest News Uttarakhand Viral News

उत्तराखण्ड: राजनीति छोड़ धर्मगुरु बन गया ये कांग्रेसी नेता, जानिये कौन सा पंथ अपनाया

चंद्रशेखर जोशी।
कांग्रेस के राष्ट्रीय स्तर के पदाधिकारी ने राजनीति को अलविदा कहकर अध्यात्म का रास्ता चुन लिया है। कुछ दिन पहले तक अपने तल्ख तेवरों से हल्ला बोलने वाले इस नेता की नई पहचान ने लोगों को सकते में डाल दिया है। फिलहाल इस नेता ने आर्य समाज का रास्ता चुना है, जो मूर्ति पूजा में विश्वास नहीं रखते हैं और वेदों को मानते हैं। इसी क्रम में ये कांग्रेसी नेता भी अपने देशी और विदेशी भक्तों को वेदों की और लौटने के लिए प्रेरित कर रहा है। uttrakhand this congress leader become religious leader

uttrakhand this congress leader become religious leader
uttrakhand this congress leader become religious leader

इस नेता का नाम है राम विशाल देव। हरिद्वार की राजनीति में बहुत कम समय में नाम कमाने और यूथ कांग्रेस में प्रदेश से लेकर राष्ट्रीय स्तर पर पदाधिकारी रहे राम विशाल देव ने बताया कि समाज में एकता और भाईचारा लाने के लिए अब उन्होंने अध्यात्म का रास्ता चुना है। उन्होंने बताया कि देश को तोडने का काम आज कुछ शक्तियों द्वारा किया जा रहा है। लेकिन हम गंगा जमुनी तहजीब को बचाने और वेदों का प्रचार प्रसार करने का काम कर रहे हैं।
उन्होंने कहा कि राजनीति में उन्हें बहुत कुछ हासिल हुआ है और अब वो अध्यात्म के जरिए देश को बदलने का काम करेंगे। इसके लिए वो लोगों को प्रेरित भी कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर भी इन दिनों राम विशाल देव अपने विदेशी भक्तों को यज्ञ कराते नजर आ रहे हैं। साथ ही उनकी सभी पोस्ट अब अध्यात्मिक होती है।

uttrakhand this congress leader become religious leader
uttrakhand this congress leader become religious leader

राम विशाल देव को जल्द ही नया नाम भी मिलने वाला है। हालांकि इससे पहले भी वो आर्य समाजी ही थे। फिलहाल राम विशाल देव श्यामपुर के एक आश्रम में रहकर अध्यात्म, योग और वेदों का अध्ययन कर रहे हैं। हालांकि राजनीति में वो राहुल गांधी की युवा टीम का भी हिस्सा रह चुके हैं और हिमाचल प्रदेश में उन्हें विधानसभा चुनावों का प्रभारी भी बनाया गया थां। राम विशाल देव हरिद्वार लोकसभा के प्रभारी भी रहे हैं। युवाओं में उनकी अच्छी पकड है। लेकिन उन्होंने अध्यात्म का रास्ता क्यों चुना इसका उन्होंने ठोस जवाब नहीं दिया है। फिलहाल उन्होंने ये जरूर बताया कि अब धर्म और अध्यात्म ही उनका अगला मार्ग होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.