fake ips officer arrested by grp haridwar police
Breaking News Haridwar Latest News Uttarakhand Viral News

आईपीएस अफसर बन सिपाहियों से करा रहा था सेवा, थानेदार ने पहचान लिया फर्जीवाडा

चंद्रशेखर जोशी।
उत्तराखण्ड पुलिस को इंडियन आईपीएस अफसर बन बेवकूफ बनाने का प्रयास कर रहे बिहार के एक बहरुपिये युवक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। आरोपी युवक खुद को आईपीएस अफसर और अपनी तैनाती नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो में बता रहा था। युवक ने अपने हाव—भाव और पैंतरों से सिपाहियों का विश्वास भी जीत लिया था लेकिन थानेदार ने पहुंचते ही युवक का फर्जीवाडा पकड लिया। इसके बाद आरोपी युवक को गिरफ्तार कर​ लिया गया। बताया जा रहा है कि आरोपी युवक को इससे पहले ऋषिकेश पुलिस ने भी सीबीआई अधिकारी बताकर फर्जीवाडा करने के आरोप में गिरफ्तार किया था। आरोपी हाल ही में जमानत पर बाहर आया था और लखनउ जीआरपी में सीबाआई दारोगा बताकर अपनी सरकारी पिस्टल चोरी होने का मुकदमा भी दर्ज करा चुका हैं।
घटना जीआरपी हरिद्वार थाने की है। हरिद्वार रेलवे स्टेशन पर आर्मी की वर्दी पहने एक युवक पुलिसकर्मियों को दिखाई दिया। युवक ने खुद को आईपीएस अफसर बताया। इसके कमर पर पिस्टल भी लगी थी। साथ ही एक बैग भी था। सिपाहियों ने सोचा कि हो सकता है कि नए बैच का अधिकारी हो। सिपाही इतने में फर्जी आईपीएस के लिए चार का इंतजाम करने चल दिए। बाद में जीआरपी थाना प्रभारी अनुज सिंह को भी पता चला तो वो भी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने आईपीएस अधिकारी के हाव—भाव देखे तो कुछ शक हुआ। पूछताछ करने पर युवक ने बताया कि वो नारकोटिक्स सेल में है और यहां जांच के लिए आया है। इस पर अनुज सिंह ने आईपीएस अधिकारी की पिस्टल को दिखाने को कहा तो पता चला कि वो खिलौना पिस्टल थी।
इसके बाद आरोपी युवक को धर लिया गया और कडाई से पूछताछ की गई। युवक की शिनाख्त रितेश राजपूत पुत्र राजेश सिंह निवासी चंदनपुर थाना विलोथू, जिला रोहताश बिहार के तौर पर हुई। आरोपी युवक ने बताया कि वो जीआरपी हरिद्वार पुलिस को लूटने आया था ताकि कुछ पैसा जमा कर यहां से चलता बने। उसने बताया कि 2017 में उसे ऋषिकेश पुलिस ने गिरफ्तार किया था। वहां उसने खुद को सीबीआई अधिकारी बताया था। यही नहीं इसी तरह आरोपी युवक झारखण्ड और छत्तीसगड सहित कई राज्यों में पुलिस पर रौब गालिब करने का काम करता है। हाल ही में उसने लखनउ में सीबीआई दारोगा पर अपनी पिस्टल चोरी होने की रिपोर्ट लिखाई थी। लेकिन बाद में पता चला था कि इस नाम का कोई दारोगा सीबीआई में नहीं है। इसके बाद पुलिस ने केस में एफआर लगाई थी। आरोपी के कब्जे से मोबाइल, बैग आदि सामान भी बरामद किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.