Latest News Uttarakhand

दावेदार—’मैं स्वामीजी का ​टिकट नहीं कटवा रहा, मैं तो सिर्फ अपना टिकट मांग रहा हूं’

हरिद्वार ग्रामीण से भाजपा विधायक स्वामी यतीश्वरानंद हैं। लेकिन, यहां से नगर विधायक के खास सेनापति माने जाने वाले युवा तुर्क नरेश शर्मा अपनी दावेदारी कर रहे हैं। नरेश शर्मा में ऐसी क्या खास बात है कि पार्टी उन्हें मौजूदा विधायक का टिकट काट कर पार्टी से चुनावी मैदान में उतारे। आइये जानते हैं उनसे….

प्रश्न— ऐसा आपमें क्या है कि आपको टिकट दिया जाए।
उत्तर— मैं पिछले सोलह सालों से पार्टी के लिए काम कर रहा हूं। भाजपा युवा मोर्चा का दो बार अध्यक्ष भी रहा हूं। मैं हरिद्वार ग्रामीण क्षेत्र में लंबे समय से सक्रिय हूं। मैंने यहां बहुत मेहनत की है और मैं यहां की समस्याओं को जानता हूं। मेरा इस क्षेत्र के लोगों से जुड़ाव है, चाहे वो किसी भी समाज से आता हो। मुझे पता है कि यहां का विकास कैसे करना है। इसलिए मैं समझता हूं कि मुझे यहां से टिकट मिलना चाहिए। मैंने अपनी इच्छा पार्टी हाईकमान के सामने रख दी है। मौजूदा विधायक स्वामी यतीश्वरानंद भी भाजपा से ही हैं। इसलिए पार्टी जो निर्णय लेगी मुझे कबूल होगा, लेकिन मैं समझता हूं कि मुझे एक बार मौका अवश्य मिलना चाहिए।

13920803_975309782595639_4549918813225163320_n
प्रश्न—हरिद्वार ग्रामीण क्षेत्र की प्रमुख समस्याएं क्या हैं।
उत्तर— हरिद्वार ग्रामीण बहुत पिछड़ा हुआ इलाका है। यहां कांग्रेस सरकार ने विकास पर ध्यान नहीं दिया है। ग्रामीण इलाका होने के कारण शिक्षा और स्वास्थ्य की सेवाएं सीमित हैं जबकि ये क्षेत्र गंगा से लगा हुआ है और यहां पर्यटन और उद्योगों की अपार संभावनाएं हैं। बावजूद इसके यहां कोई विकास नहीं किया गया। रवासन नदी के पुल के लिए हम लंबे समय से लड़ते रहे। अब जाकर सरकार ने वो मांग पूरी की। इसी तरह शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली पानी और रोजगार के सवाल अभी भी बने हुए हैं। हमारे विधायक ने प्रयास किया है, लेकिन सरकार कांग्रेस की होने के कारण यहां सौतेला व्यवहार किया गया। लेकिन, मैं आउंगा तो ऐसा नहीं होगा।
प्रश्न— आपने इस क्षेत्र के लिए ​क्या किया है, पांच काम गिनाइये।
उत्तर— पांच नहीं पांच सौ काम हैं, जो कार्य मैंने यहां लोगों के बीच रहकर उनके साथ संघर्ष किए हैं। सड़कों से लेकर शौचालयों के निर्माण और साफ पानी से लेकर स्वास्थ्य के लिए लोगों के साथ मिलकर काम किया है। हर मौके पर मैं लोगों के बीच रहा हूं। मैं ये नहीं कह रहा कि हमारे विधायक स्वामी यतीश्चरांनद ने कुछ नहीं किया है। उन्होंने भी अपने स्तर से प्रयास किए हैं।
प्रश्न— जब स्वामी यतीश्वरानंद ने अच्छा काम किया है तो आप उनका टिकट कटवाने पर क्यों तुले हुए हैं।

उत्तर— देखिए मैं किसी का टिकट नहीं कटवा रहा हूं। ये मेरा अधिकार है कि मैं पार्टी से हरिद्वार ग्रामीण से टिकट मांग रहा हूं। कौन सा ऐसा नेता है जो अपनी दावेदारी नहीं करता हैं और कहां लिखा है कि आपकी पार्टी ​का विधायक हो तो आप उस सीट से टिकट नहीं मांग सकते हैं और कोई भी पार्टी हो इतिहास गवाह रहा है कि सिटिंग विधायकों की जगह युवा और कर्मठ सिपाहियों को मौका दिया गया है। ये फैसला पार्टी का है कि वो किसको टिकट देती है, मैं सिर्फ अपना काम कर रहा हूं। इसमें मुझे कोई बुराई नहीं दिखाई देती है। ये मेरा अधिकार हैं और मैं इसे मागूंगा।
प्रश्न— सीएम हरीश रावत की बेटी अनुपमा रावत हरिद्वार ग्रामीण से तैयारी कर रही हैं, आपको डर तो नहीं लग रहा।

उत्तर— ये मेरा सौभाग्य होगा कि मुझे टिकट मिले और मेरे सामने सीएम के परिवार का कोई सदस्य या सीएम खुद चुनाव लड़े। तभी मुझे अपनी जौहर दिखाने का मौका मिला है। खैर सीएम हरीश रावत की बेटी का जहां तक सवाल है वो तैयारी कर रही हैं। लेकिन हरीश रावत का ये इतिहास रहा है कि वो जहां से एक बार चुनाव लडते हैं वहां से अगली बार अपना स्थान बदल देते हैं। क्योंकि दोबारा चुनाव लडेंगे तो वहां की जनता उन्हें सबक सिखा देती है। जैसे 2014 लोक सभा चुनाव में हुआ। उन्होंने अपनी सीट पर अपनी पत्नी रेणूका रावत को उतारा, लेकिन क्या हुआ ये सब जानते हैं। हारने के बाद रेणुका रावत कभी क्षेत्र में नहीं आई। अब उनकी बेटी आ गई चुनाव लड़ने। हरिद्वार ग्रामीण की जनता स्थानीय प्रत्याशी को पसंद करेगी ना कि पैराशूट प्रत्याशी को, आप देख लेना ये रिजल्ट बता देगा।

प्रश्न— आप पर आरोप है कि आप नगर विधायक मदन कौशिक के इशारे पर हरिद्वार ग्रामीण विधायक स्वामी यतीश्वरानंद के खिलाफ काम कर रहे हैं।

उत्तर— ये आरोप निराधार हैं। आरोप लगाना आसान होता हैं। दोनों ही हमारी पार्टी के विधायक हैं और चुनावों में मैंने दोनों ही नेताओं के लिए काम किया है। मैं आपको बता देना चाहता हूं कि मैंने पिछले चुनाव में मदन जी को कम समय दिया, जबकि स्वामी यतीश्वरानंद को चुनाव जीताने में पूरा सहयोग किया। आगे भी पार्टी जो भी निर्णय लेगी मैं पार्टी के प्रत्याशियों के लिए काम करता रहूंगा।

प्रश्न— विधायक बनने के बाद आपकी प्राथमिकताएं क्या होंगी।

उत्तर— मैं हरिद्वार ग्रामीण की जनता के लिए अच्छे कॉलेज और स्वास्थ्य के लिए एक बेहतर अस्पताल बनवाउंगा। साथ ही हरिद्वार ग्रामीण के युवाओं को रोजगार दिलाने के लिए काम करूंगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.