Uttarakhand

‘विकास’ के लिए कांग्रेस-भाजपा नेताओं में मारपीट, केस दर्ज 

चंद्रशेखर जोशी।
मध्य हरिद्वार में जलभराव की समस्या से निजात दिलाने के लिए आनन-फानन में किए जा रहे कार्य का श्रेय लेने की होड़ आखिरकार मारपीट पर जाकर खत्म हुई है। कांग्रेस और भाजपा के दो नेताओं में रविवार रात सरेआम मारपीट हुई। दोनों नेताओं की लड़ाई छुड़ाने के लिए भी कोई नहीं आया। बाद में घर की छत पर टहल रहे कांग्रेसी नेता ने अपने साथी के साथ नीचे आकर दोनों की लड़ाई छुड़ाई। लेकिन, तब तक दोनों एक-दूसरे के कपड़े फाड़ चुके थे। वहीं मारपीट के बाद पूरी रात कांग्रेस और भाजपा के कार्यकर्ता रानीपुर मोड़ पर जमा रहे। दोनों की ओर से केस दर्ज करा दिया गया है।
क्या है विवाद 
चंद्राचार्य चौक मध्य हरिद्वार का व्यवसायिक केंद्र कहलाता है। यहां हर बरसात में जलभराव होता है इसके कारण व्यापारियों की दुकानों में पानी घुस जाता है। यहां पानी की निकासी घंटों बाद होती है। ऐसे में उत्तरी हरिद्वार और ज्वालापुर को जोड़ने वाले इस मुख्य केंद्र पर यातायात भी बाधित हो जाता है। इसी इलाके में भाजपा के मेयर मनोज गर्ग और तीन बार से विधायक मदन कौशिक भी रहते हैं। हर बरसात में मदन कौशिक को लोगों का विरोध झेलना पड़ता है। कुछ दिनों पहले हुई बारिश के बाद भी यहां पानी भर गया था। इसके बाद राज्य सरकार की ओर से पानी की निकासी के लिए जल निगम की वर्षों पुरानी योजना के लिए बजट जारी कर दिया गया। इसके बाद यहां जल निकासी के लिए अतिरिक्त पाइप लाइन डाले जाने लगे। इसका श्रेय लेने के लिए कांग्रेसी और भाजपाई पिछले एक सप्ताह से आपस में भिड़ रहे हैं। इसमें मदन कौशिक और उनके सामने विधानसभा चुनाव हार चुके सतपाल ब्रह्मचारी भी आमने-सामने हो चुके हैं।
किनमें हुई जूतम-पैजार 
चंद्राचार्य चौक व्यापार मंडल के अध्यक्ष मृदुल कौशिक हाल ही में कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए हैं और मदन कौशिक के खास माने जाते हैं। वहीं भाजपा से कांग्रेस में आए सचिन बेनीवाल कांग्रेस के अंबरीष कुमार गुट के युवा तुर्क हैं। दोनों में इस मामले को लेकर कई बार गाली गलौच हो चुकी थी। रविवार रात को दोनों रानीपुर मोड़ पर मिले और देखते ही देखते लात-घुसे चल गए। दोनों की लड़ाई छुड़वाने वाले कांग्रेस नेता आशीष चौधनी ने बताया कि रानीपुर मोड स्थित गुड मार्निंग की दुकान के बाहर मृदुल कौशिक और एक बड़े अखबार के पत्रकार खड़े थे। इसी बीच सचिन बेनीवाल वहां आया और मृदुल कौशिक से हाथ मिलाया। दोनों में सामान्य बात चल रही थी। देखते ही देखते दोनों में तनातनी हुई और एक-दूसरे को मारने लगे। किसी ने दोनों का बीच-बचाव करने का प्रयास नहीं किया। दोनों एक-दूसरे को बुरी तरह पीट रहे थे। बाद में आशीष चौधरी और छात्र नेता रविकांत मलिक अपने घर से नीचे आए और दोनों को अलग कराया। इसके बाद कांग्रेसी  एकत्र होकर मृदुल कौशिक को तलाशने लगे। सोमवार को दोनों ओर से ज्वालापुर में केस दर्ज करा दिया गया है।
किनमें हुई जूतम-पैजार 
चंद्राचार्य चौक व्यापार मंडल के अध्यक्ष मृदुल कौशिक हाल ही में कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए हैं और मदन कौशिक के खास माने जाते हैं। वहीं भाजपा से कांग्रेस में आए सचिन बेनीवाल कांग्रेस के अंबरीष कुमार गुट के युवा तुर्क हैं। दोनों में इस मामले को लेकर कई बार गाली गलौच हो चुकी थी। रविवार रात को दोनों रानीपुर मोड़ पर मिले और देखते ही देखते लात-घुसे चल गए। दोनों की लड़ाई छुड़वाने वाले कांग्रेस नेता आशीष चौधनी ने बताया कि रानीपुर मोड स्थित गुड मार्निंग की दुकान के बाहर मृदुल कौशिक और एक बड़े अखबार के पत्रकार खड़े थे। इसी बीच सचिन बेनीवाल वहां आया और मृदुल कौशिक से हाथ मिलाया। दोनों में सामान्य बात चल रही थी। देखते ही देखते दोनों में तनातनी हुई और एक-दूसरे को मारने लगे। किसी ने दोनों का बीच-बचाव करने का प्रयास नहीं किया। दोनों एक-दूसरे को बुरी तरह पीट रहे थे। बाद में आशीष चौधरी और छात्र नेता रविकांत मलिक अपने घर से नीचे आए और दोनों को अलग कराया। इसके बाद कांग्रेसी  एकत्र होकर मृदुल कौशिक को तलाशने लगे। सोमवार को दोनों ओर से ज्वालापुर में केस दर्ज करा दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.