Breaking News Haridwar Latest News Uttarakhand Viral News

भाजपा विधायक और चेयरमैन समर्थकों में तू—तड़ाक, पर्यवेक्षक के सामने हंगामा

चंद्रशेखर जोशी।
रानीपुर विधानसभा में मंडल अध्यक्ष के चुनाव को लेकर स्थानीय विधायक आदेश चौहान और नगर पालिका शिवालिक नगर पालिका अध्यक्ष राजीव शर्मा के समर्थकों में पिछले कुछ दिनों से चली आ रही तनातनी ने सोमवार को विस्फोटक रूप ले लिया। शिवालिक नगर के एक होटल में दोनों गुटों के समर्थक आपस में भिड गए और दोनों में खूब तनातनी हुई। देहरादून से पहुंचे पर्यवेक्षक और भाजपा जिलाध्यक्ष व महामंत्री सहित अन्य वरिष्ठ पदाधिकारी भी हैरत में पड गए। काफी समझाने के बाद भी दोनों गुट शांत नहीं हुए। बाद में एक गुट ने पुलिस को शिकायत भी की।

————
विधायक गुट पडा चेयरमैन गुट पर भारी
असल में रानीपुर के शिवालिक नगर मंडल के चुनाव में डा. अंबरीष कुमार को अध्यक्ष चुना गया। अंबरीष कुमार विधायक समर्थक गुट से आते हैं। जबकि चेयरमैन गुट से धर्मेंद्र विश्नोई व अन्य दूसरे लोगों के नाम चर्चा में थे। चेयरमैन गुट के लोगों का मानना है कि तकनीकी कारणों और नियमों का हवाला देते हुए कुछ लोगों के नाम बाहर किए गए। जो​ नियमों के खिलाफ है। वहीं डा. अंबरीष कुमार के बनने से विधायक गुट के लोग खुश है तो चेयरमैन गुट के कार्यकर्ताओं में गुस्सा।
शिकवों शिकायतों को लेकर सोमवार को पर्यवेक्षक देहरादून से आए थे और एक होटल में चर्चा चल रही थी। इसी दौरान दोनों गुटों के समर्थक आपस में भिड गए। हालांकि मारपीट की बात से सभी इनकार कर रहे हैं। लेकिन तनातनी और धक्का मुक्की की बात को मान रहे हैं। वहीं दूसरी ओर विवाद को देखते हुए आला पदाधिकारी चुप्पी साधे हुए हैं। जिला महामंत्री विकास तिवारी ने बताया कि दोनों तरफ के कार्यकर्ताओं को समझाने का प्रयास किया जा रहा था। हमारा बडा परिवार है कुछ असहमति होती है। लेकिन हमारे सीनियर पदाधिकारी मामले को सौहार्द के साथ निपटा लेंगे।

—————
पुरानी है विधायक और चेयरमैन की टशन
रानीपुर विधायक आदेश चौहान और चेयरमैन राजीव शर्मा की टशन नई नहीं है। चेयरमैन चुनाव में विधायक समर्थकों के एक गुट ने बगावत कर चेयरमैन राजीव शर्मा के खिलाफ चुनाव लडा था। हालांकि विरोध केा दरकिनार करते हुए राजीव शर्मा ने जीत दर्ज की थी। इससे पहले भी दोनों आमने सामने आ चुके हैं। दोनों के शीत शुद्ध के कारण स्थानीय स्तर पर भी कार्यकर्ताओं के दो गुट बने हुए हैं। दोनो ही एक दूसरे को पछाड संगठन पर अपनी पकड बनाने की जुगत में लगे रहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.