Breaking News Haridwar Latest News Viral News

प्रधानमंत्री मोदी मुर्दाबाद कहने वाले सिख नेता के समर्थन में उतरा सिख समाज, देखें वीडियो

ब्यूरो।
हिंदुस्तान मुर्दाबाद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुर्दाबाद के नारे लगाने वाले सिख समुदाय के नेता जोगा सिंह के समर्थन में सिख समुदाय उतर आया है। हरकी पैडी हरिद्वार के पास गुरुद्वारा ज्ञान गोदडी निर्माण के लिए आंदोलन चला रही गुुरद्वारा ज्ञान गोदडी प्रबंधन कमेटी ने कहा कि सिख समाज जोगा सिंह के साथ खडा है और उनकी जमानत की रिहाई के सभी प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि सिखों के साथ हो रहे अन्याय को कभी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।
गौरतलब है कि 14 मई को गुरुद्वारा ज्ञान गोदडी प्रबंधक कमेटी के बैनर तले बडी संख्या में सिख समुदाय के लोगों ने हरकी पैडी पर कूच किया था। सिख समुदाय के लोगों का दावा है कि वो वहां पहुंच गए थे और पुलिस की मौजूदगी में अरदास भी किया था, जैसा कि पिछले कई सालों से वो करते आ रहे हैं। लेकिन पुलिस ने उन्हें जबरदस्ती नाम लिखाने के बहाने सीसीआर टॉवर ले जाकर गिरफ्तार कर लिया और उन्हें हिरासत में लेकर पुलिस लाइन रोशनाबाद ले गई। इसके बाद उनके साथी जोगा सिंह को देश विरोधी नारे लगाने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया।  गुरूद्वारा ज्ञान गोदड़ी प्रबन्धक कमेटी के अध्यक्ष हरजीत सिंह दुआ ने बताया कि जोगा सिंह से मुलाकात कर उन्हें आश्वासन दिया गया कि पूरा सिख समाज व गुरूनानक नाम लेवा संगत उनके साथ है और उन्हें जल्द ही रिहा करवाया जायेगा। मुलाकात करने वालों में गुरूद्वारा ज्ञान गोदड़ी मूवमेन्ट के कोर्डिनेटर स0 गुरप्रीत सिंह बग्गा, अनूप सिंह सिद्धू, हरजीत सिंह दुआ, स0 हरमोहन सिंह शामिल थे। उन्होंने बताया कि जोगा सिंह की रिहाई के लिये दिल्ली सिख गुरूद्वारा प्रबन्धक कमेटी पूरी तरह से उनके साथ है और मदद करेगी। वहीं कनखल स्थित विरक्त कुटिया मंे भी एक बैठक का आयोजन किया गया जिसमंे जोगा सिंह की रिहाई कराने के लिए सिख समाज द्वारा कार्यवाही करने का निर्णय लिया गया। सुब्बा सिंह ढिल्लो ने बताया कि जोगा सिंह से मुलाकात की गई और उनके लिये एक वकील करके जल्द ही कोर्ट में अर्जी दी जायेगी। उन्होंने बताया कि जोगा सिंह द्वारा हरकी पौड़ी स्थित ऐतिहासिक स्थल की मांग की जा रही है। उन्होंने बताया कि जोगा सिंह की जमानत के बाद संघर्ष को आगे बढ़ाया जायेगा। काफी समय से सिख समाज गुरूद्वारा ज्ञान गोदड़ी के निर्माण मांग को लेकर धरने प्रदर्शन करता चला आ रहा है। शासन प्रशासन को सिख समाज की भावनाओं का सम्मान करते हुए जल्द से जल्द सभी अड़चनों को दूर कर गुरूद्वारे निर्माण के लिये अनुमति प्रदान करनी चाहिये। बैठक में बाबा पंडत, राजू सिंह, जसकरण सिंह, कुलतार सिंह, अमरजीत सिंह, साहब सिंह, अमनदीप सिंह, रशपाल सिंह, बाबा ज्ञानी, जोगन सिंह, सत्तार सिंह आदि उपस्थित थे।


————
क्या है विवाद
गुरु ज्ञान गोदडी गुरुद्वारे का विवाद नया नहीं है। गुरुद्वारे के लिए आंदोलन करने वाले सिख समुदाय के प्रतिनिधि अनूप सिंह सिद्धू ने बताया कि 1984 के दंगों से पहले हरकी पैडी के पास नाई सोता पर गुरु ज्ञान गोदडी गुरुद्वारा हुआ करता था। ये इतिहास में दर्ज है कि हरिद्वार प्रवास के दौरान गुरु नानक देव जी यहां ठहरे थे और प्रवचन किया था। गुरु नानक देवजी यहां कुछ दिन रुके थे। इसलिए ये हमारे लिए पवित्र स्थान है। इसके बाद ही ये गुरुद्वारा चल रहा था। 1978 में इस जगह का विस्तारीकरण के नाम पर हमसे जगह ली गर्ई। लेकिन विस्तारीकरण के बाद जब जमीन का आवंटन किया जाना था तब 1984 के दंगे शुरू हो गए। इसका फायदा उठाते हुए यहां ज्ञान गोदडी गुरुद्वारे की जगह हमें नहीं सौंपी गई। यहां अब बाजार बना दिया गया। सिख समुदाय के लोग तभी से यहां गुरुद्वारा बनाए जाने की मांग रहे हैं। इसको लेकर लंबी लडाई लडी जा रही है। कई बार सिख समुदाय के लोग आंदोलन कर चुके हैं लेकिन पुलिस सिख समुदाय को वहां अरदास करने के लिए जाने नहीं देती। गुरु ज्ञान गोदडी गुरुद्वारे के निर्माण के लिए पंजाब और दिल्ली के सिख समाज के संगठन भी प्रयास कर रहे हैं। 14 मई से इन प्रयासों को दोबारा शुरू किया गया है। हालांकि गुरुद्वारा निर्माण को लेकर सिखों का प्रेम नगर आश्रम पुल के पास धरना भी चल रहा है। ये धरना पिछले 225 दिनों से चल रहा है। बावजूद इसके सरकार और शासन—प्रशासन इस समस्या का हल करने का नाम नहीं ले रहा है। हालांकि सिख समुदाय के नेता कांग्रेस, भाजपा सहित तमाम सरकारों को इसकी गुहार लगा चुके हैं। 14 मई को अरदास करने के दौरान कई लोगों पर केस दर्ज किया गया था। इन लोगों का आरोप है कि पुलिस जबरन विवाद बढाने की कोशिश कर रही है जबकि वहां अरदास करने से किसी ने मना नहीं किया है और ना ही किसी को आपत्ति है। इस मामले को पुलिस प्रशासन तूल दे रहा है। हम सिर्फ अपना हक चाहते हैं जो संविधान ने हमें दिया है।

 


खबरों पर सुझाव और टिप्पणी देने के लिए व्हट्सएप करें— 8267937117

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.