Breaking News Latest News Nation

सहारनपुर दंगों से हुए नुकसान की भरपाई के लिए हिंदू संगठनों ने अपनाई ये रणनीति

चंद्रशेखर जोशी।
देश के विभिन्न इलाकों में दलित और अगडों के बीच तनाव को देखते हुए हिंदू संगठनों ने अपनी रणनीति में बदलाव किया है। खासतौर पर इस बदलावा को सहारनपुर दंगों के बाद दलित और अगडों के बीच पैदा हुई खाई को पाटने के तौर पर देखा जा रहा है। इसी तरह का एक प्रस्ताव हरिद्वार में विश्व हिंदू परिषद ने अपनी तीन दिवसीय बैठक में पास किया है।
इसमें साफ तौर पर विहिप ने देश में छुआछूत के खिलाफ अभियान चलाने की बात कही है। साथ ही ये भी आरोप लगाया कि दलित और दूसरे हिंदू जातियों के बीच टकराव देश को तोडने वाले शक्तियों के कारण हो रहा है।
विश्व हिंदू परिषद के अंतर्राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगडिया ने कहा कि छुआछूत देश की सबसे गंभीर समस्या है। इस समस्या से निपटने के लिए हम सभी को आगे आना होगा। उन्होंने कहा कि ये बाहरी शक्तियों को हिंदुओं की एकता को कमजोर करने की रणनीति है। किसी जगह विशेष का जिक्र ना करते हुए उन्होंने कहा कि जहां हिंदुओं को एक करने का प्रयास किया जाएगा। साथ ही छुआछूत खत्म करने के लिए देश भर में अभियान चलाया जाएगा। इससे पहले आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत भी इस तरह का बयान दे चुके हैं। आरएसएस लगातार इस बात पर जो दे रही है कि छुआछूत खत्म किया जाना चाहिए।


असल में हाल यूपी के सहारनपुर में दलितों और ठाकुरों के बीच संघर्ष हुआ था। इसके बाद से देश भर में दलितों में गुस्सा बना हुआ है। इसकी भरपाई करने के लिए अब विहिप ने ये तरीका अपनाया है। इससे साफ है कि आरएसएस और इससे जुडे हिंदुवादी संगठन आने वाले दिनों में इस खाई को पाटने का काम करेंगे।

————राम मंदिर पर बनाया जाए कानून———
विहिप की बैठक में राम मंदिर पर संसद में कानून लाकर मंदिर निर्माण किए जाने का प्रस्ताव भी पास किया गया। साथ ही गौ रक्षा के लिए राष्ट्रीय स्तर पर कडा कानून लाने की मांग केंद्र सरकार से की गई। प्रवीण तोगडिया ने कहा कि गौकशी करने वालों के लिए मृत्युदंड का प्रावधान किया जाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.