Latest News Roorkee चुनावी जंग

देवर की आक्रामक रणनीति की काट के लिए भाभी उतरी मैदान में

 

राव तौसीफ, भगवानपुर।

देवर सुबोध राकेश के आक्रामक प्रचार ने कांग्रेस की नींद उडा दी है। हालांकि, सुबोध राकेश का अभी टिकट फाइनल नहीं हुआ है और कई पुराने भाजपा नेता सुबोध का विरोध भी कर रहे हैं। लेकिन सुबोध की गोलबंदी से हो रहे नुकसान की भरपाई के लिए भाभी ममता राकेश को भी अपनी रणनीति बदलनी पडी है।

ममता राकेश अक्सर अपनी सभाओं में अपने पति सुरेंद्र राकेश की याद दिलाकर वोटरों को वोट देने के लिए बोल रही है। वहीं दूसरी ओर सुबोध राकेश भी इसी इमोशनल नुस्खे का प्रयोग कर रहे हैं। ममता राकेश को कांग्रेस से टिकट मिलना तय माना जा रहा है। ममता राकेश के सामने सबसे बडी चुनौती अपने परिवार का ही हिस्सा रहे सुबोध राकेश से मिल रही है। सुबोध राकेश पिछले काफी समय से आक्रामक रणनीति से प्रचार कर रहे हैं। दलितों के साथ—साथ मुसलमानों के वोटों को रिझाने का प्रयास किया जा रहा है। वहीं ममता राकेश का फोकस भी इन दलित और मुस्लिम वोट बैंक को लेकर ही है। दलित मुस्लिम वोट बैंक में सुबोध की सेंध के बाद ममता और ज्यादा ताकत से इस वोट बैंक को संभालने में लग गई है। हालांकि, देवर—भाभी की जंग का फायदा उठाने के लिए बसपा टिकट फाइनल होने का इंतजार कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.