Breaking News Haridwar Kumbh Mela 2021 Latest News Uttarakhand Viral News

कुंभ 2021: कुंभ के सारे प्रोजेक्ट अधूरे, करीब एक हजार करोड़ होना है खर्च, क्या कहते हैं अफसर

रतनमणी डोभाल।
कुंभ योजना 2021 Kumbh 2021 का एक भी काम अभी तक कंप्लीट नहीं है। इस बार कुंभ लगभग एक हजार करोड़ रुपए का होने का अनुमान है। जिनमें करीब पांच सौ करोड़ स्थायी और इतने ही अस्थायी कार्यों पर खर्च होंगे। हालांकि कोरोना के प्रभावों को देखते हुए ये कुछ कम भी हो सकता है। लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात ये है कि अभी तक अधिकतर काम लटके हुए हैं। वहीं आला अफसर कुंभ शुरू होने से पहले सारे काम पूरा करने का दावा कर रहे हैं।
अभी तक कुंभ मेला के सेक्टर होंगे, यह भी तय नहीं हो पाया है। मेला अधिकारी कुंभ दीपक रावत ने कुंभ योजना के विभिन्न विभागों के स्थायी कार्यों को पूर्ण करने के लिए 30 अक्टूबर की अंतिम तारीख घोषित की थी। लेकिन कुंभ काम कंप्लीट नहीं है। सारा काम न केवल फैला पड़ा है बल्कि अभी भी फैलाया ही जा रहा है यह निश्चित नहीं है कि समेटने का काम कब शुरू होगा । विभिन्न विभागों में समन्वय नहीं होने से भी कार्य प्रभावित हो रहे हैं।
जब तक कुंभ मेला कितने सेक्टर में होगा यह निश्चित नहीं हो जाता है तब तक सेक्टरों में जो अस्थाई कार्य होने हैं उनको भी शुरू नहीं किया जा सकता है। कुंभ पर्व के श्रद्धालुओं का स्नान मकर संक्रांति 14 जनवरी से शुरू होंगे और कुंभ पर्व में जितने भी स्नान होने हैं उनको सकुशल संपन्न कराने का दायित्व मेला प्रशासन का है। श्रद्धालुओं की सुरक्षा व्यवस्था से लेकर यातायात की व्यवस्था भी मेला प्रशासन की होती है। इसके लिए अंतर राज्य बस अड्डा साबित करना होता है तथा विभिन्न राज्यों से बसों का बेड़ा मंगवाना पड़ता है, परंतु इस पर अभी चर्चा तक नहीं हो रही है।
——
इस बार 11वर्ष में आया है कुंभ का योग
कुंभ का योग 12 वर्ष में आता है। लेकिन इस बार कुंभ का योग 11 वर्ष में आया है। कुंभ का पहला शाही स्नान महाशिवरात्रि 11 मार्च, चैत्र अमावस्या सोमवार 12 अप्रैल तथा नव संवत्सर 13 अप्रैल ,मेष संक्रान्ति 14 तथा चैत्र पूर्णिमा का स्नान 27 अप्रैल को होगा। कुंभ पर्व में 10 से 11 स्नान पड़ रहे हैं।
——-
मेलाधिकारी कुंभ दीपक रावत Kumbh Mela Officer Deepak Rawat ने कुंभ योजना के कार्यदायी विभागों के अधिकारियों को नवंबर तक स्थायी कार्य कंप्लीट करने के निर्देश दिए हैं। कुछ बड़े देर से शुरू हुए काम दिसंबर तक खींच सकते हैं। उनका दावा है कि सभी व्यवस्थाएं समय पर हो जाएंगी।
———
श्री गंगा सभा के अध्यक्ष प्रदीप झा का कहना है कि कोरोना महामारी ने कुंभ की सभी योजनाओं को प्रभावित किया है। सरकार को अभी यह तय करना है कि कुंभ के शाही स्नान तथा जनवरी से प्रत्येक माह पड़ रहे पर्वो के स्नान कैसे होंगे। सरकार को जल्दी निर्णय लेना चाहिए ताकि व्यवस्थाओं को अंतिम रूप दिया जा सके। उन्होंने कहा कि केवल सरकार व मेला प्रशासन को ही कुंभ की व्यवस्थाएं नहीं करनी होती हैं। गंगा सभा सहित तथा विभिन्न धार्मिक संस्थाओं, आश्रमों, अखाड़ों को श्रद्धालुओं के लिए व्यवस्थाएं करनी होती हैं।

2 Replies to “कुंभ 2021: कुंभ के सारे प्रोजेक्ट अधूरे, करीब एक हजार करोड़ होना है खर्च, क्या कहते हैं अफसर

  1. NO USE. It is better to make a good infrastructure. The present officers, Contractors will walk away, making poor quality roads etc., . It is better to defer the Kumbh Mela. If the Kumbh Mela can not be deferred, the Construction work may kindly be deferred rather than Poor Work.

  2. NO USE. It is better to make a good infrastructure. The present officers, Contractors will walk away, making poor quality roads etc., . It is better to defer the Kumbh Mela. If the Kumbh Mela can not be deferred, the Construction work may kindly be deferred rather than Poor Work.
    THIS IS FIRST TIME COMMENT BY US.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.