Latest News चुनावी जंग

‘ग्रामीण से हनीफ और रानीपुर से तेलूराम टिकट की रेस से बाहर, जानिए क्यों’

कमल खड़का।
हरिद्वार ग्रामीण विधानसभा सीट से दावेदारी कर रहे वरिष्ठ कांग्रेसी हनीफ अंसारी एडवोकेट और रानीपुर विधानसभा से ​कांग्रेस देहात के जिलाध्यक्ष तेलूराम को टिकट की रेस से बाहर कर दिया गया है। हाल ही में हुए विवादों के बाद दोनों को नजरअंदाज किया जा रहा है। दोनों ही अपने दावेदारी प्रमुखता से कर रहे हैं और अपनी—अपनी जाति के वोट बैंक पर दांव खेल रहे हैं।
काबिलेगौर है कि ज्वालापुर विधानसभा सीट पर आयोजित कांग्रेस की बैठक में गुरजीत लहरी पर हुए मुकदमे को लेकर हनीफ अंसारी ने आवाज बुलंद की थी। हनीफ अंसारी पर आरोप है कि उन्होंने कार्यकर्ताओं के उत्पीडन पर निंदा प्रस्ताव लाने तक की बात कही थी। इसका विरोध सीएम हरीश रावत परिवार के खास खिदमतगार राव आफाक अली ने खुलकर विरोध किया था। दोनों के बीच तू—तू, मैं—मैं भी हुई थी। इसके बाद राव आफाक अली ये कहते हुए बैठक छोडकर आ गए थे कि यहां पार्टी और सरकार विरोधी गतिविधियों को अंजाम दिया जा रहा है। मैं ऐसी किसी भी बैठक का हिस्सा नहीं बन सकता हूं। उन्होंने हनीफ अंसारी और गुरजीत लहरी पर पार्टी को कमजोर करने का आरोप भी लगाया था।
वहीं रानीपुर सीट पर पाल समाज के बडे नेता तेलूराम का भी अनुपमा समर्थकों से विवाद हुआ था। इसके बाद से ही तेलूराम साइडलाइन चल रहे हैं। तेलूराम के पास जिलाध्यक्ष की जिम्मेदारी हैं, लेकिन वो इन दिनों अंबरीष समर्थकों के साथ—साथ अनुपमा रावत के समर्थकों के निशाने पर हैं। अनुपमा समर्थकों ने तो बाकायदा तेलूराम की शिकायत सीएम हरीश रावत से भी की थी। सूत्रों के मुताबिक तेलूराम के खिलाफ एन वक्त पर बना ये माहौल टिकट की रेस से उन्हें बाहर कर रहा है। हालांकि, हनीफ अंसारी और तेलूराम दोनों का ही अपनी—अपनी सीटों पर अच्छा खासा दखल है। ऐसे में पार्टी को इन दोनों को संतुष्ट कर मनाना भी आसान नहीं होगा।

2 Replies to “‘ग्रामीण से हनीफ और रानीपुर से तेलूराम टिकट की रेस से बाहर, जानिए क्यों’

  1. आपको काँग्रेस प्रदेश कार्यकारणी से कोई लिखित मे ऐसी जानकारी मिली है क्या ?
    आपकी न्यूज़ से इन नेताओं की छवि धूमिल हुई तो वह कोर्ट भी जा सकते है इसलिए पुख़्ता न्यूज़ ही डाला कीजिये, और ऐसी न्यूज़ डालने से बचिए जिससे किसी की छवि धूमिल होती हो।

    1. टिकट देना ना देना पार्टी का अपना फैसला यदि कोई भी पार्टी विरोधी हरकते करेगा तो उसको टिकट मिलना तो असम्भव ही है।

Leave a Reply to Rao shahbaz ali Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.