Breaking News crime Latest News

प्रेमिका ने हरिद्वार में लगाई थी फांसी, प्रेमी को दस साल की जेल

चंद्रशेखर जोशी।
तेरह साल पहले हरिद्वार के एक होटल में फांसी लगाकर जान देने वाली युवती के मामले में कोर्ट ने युवती के प्रेमी को आत्महत्या के लिए उकसाने का दोषी पाया है। कोर्ट ने  प्रेमी को दस साल की कैद—ए—बामुश्कत की सजा सुनाई है। दोषी युवक दिल्ली का रहने वाला है।
शासकीय अधिवक्ता नीरज गुप्ता व राजकुमार ने बताया कि तेरह साल पहले नगर कोतवाली क्षेत्र के श्रवणनाथ नगर स्थित होटल में दो मार्च 2004 को दिल्ली से तीन युवक और तीन युवतियां आई थी। दो दिन बाद दो युवक और दो युवतियां वहां से चली गई थी। जबकि एक युवक दिनेश पुत्र राजकुमार गुप्ता निवासी दक्षिणपुरी थाना अंबेडकरनगर, नई दिल्ली व उसकी प्रेमिका होटल में रूके रहे थे। अगले दिन सुबह को युवती ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। युवक को कमरे में बेहोशी की हालत में पाया गया था। बाद में युवती के परिजनों आत्महत्या के लिए उकसाने का केस दर्ज किया था। साथ ही आरोपी युवक को जेल भेज दिया था।
इस मामले में लंबे चले मुकदमे के बाद आरोपी युवक दिनेश को आत्महत्या के लिए उकसाने का दोषी पाया है। एडीजे चतुर्थ वरूण कुमार ने दिनेश को दस साल की सजा सुनाई है। साथ ही बीस हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है।


————
सुसाइट सिटी बन गई है हरिद्वार
धर्मनगरी में आए दिन खुदकशी करने के माले सामने आ रहे हैं। सबसे अधिक आत्मत्या हरिद्वार और दिल्ली से आए यात्री करते हैं। पिछले माह कई लोगों ने खुदकशी की थी। 2016 में अकेले 15 लोगों ने हरिद्वार में आकर यहां के होटलों में खुदकशी की। यही नहीं कई शव पुलिस को गंगनहर से बरामद होते हैं जिनकी शिनाख्त नहीं हो पाती है। पुलिस के मुताबिक इनमें से कई ऐसे होते हैं जो गंगा में कूदकर आत्महत्या करते हैं। सबूत ना होने के कारण इनकी शिनाख्त भी कर पाना मुश्किल होता है।

 

 

read this news also

खुले आसमान के नीचे पढने के मजबूर सरकारी स्कूल के बच्चे, देखें वीडियो 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.