Dehradun Latest News चुनावी जंग

‘मित्रों..स्कूटर भी पैसे खाता है, कांग्रेस बोली खिलाने वाले अब आपके साथी हैं’

ब्यूरो।
पीएम नरेंद्र मोदी के राज्य सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाने वाले बयान पर कांग्रेस ने पलटवार किया है। मोदी ने अपनी रैली में आपदा राहत घोटाले का इशारों में जिक्र करते हुए कहा था कि इंसान पैसे खाता है सुना था लेकिन स्कूटर भी पैसे खाता है। इस पर सीएम के सलाहकार सुरेंद्र अग्रवाल ने कि स्कूटर के तेल पीने, पिलाने व चुराने वाले घोटालेबाज नेता आज मंच पर उनके साथ में ही बैठे थे और चैकीदारोें को पता नहीं चला। उनसे तेल व आपदा का हिसाब माँगा जाना चाहिये था। असल में कांग्रेस का इशारा सूबे के पूर्व सीएम विजय बहुगुणा पर था। क्योंकि आपदा के समय विजय बहुगुणा ही राज्य के सीएम थे। उन्हें हटाकर सीएम हरीश रावत को बनाया गया था। ऐसा माना जाता है कि कांग्रेस ने विजय बहुगुणा को आपदा राहत में बेहतर काम ना कर पाने के कारण ही हटाया गया था। प्रधानमंत्री के रूप में यह स्पष्ट हो गया है कि प्रधानमंत्री जी को उत्तराखण्ड के बारे में जानकारी नहीं हैं यह सर्व विदित् है कि आपदा के समय जो घोटाले हुए थे, वे सब घोटालेबाज आज सब मोदी जी के साथ मंच पर थे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को भाजपा प्रदेश के नेतृत्व ने यह भी नहीं बताया कि इस बार 15 लाख से अधिक रिकोर्डतोड़ पर्यटकों ने चारधाम की यात्रा की है। अर्द्धकृम्भ मेला 2016 में भी 03 करोड़ से अधिक यात्री आयें हैं। उन्होंने हमारी सड़कों व व्यवस्थाओं को उच्च कोटि का माना है।
कुमार ने कहा कि राज्य की प्रति व्यक्ति आय, राष्ट्रीय औसत से दुगुनी हो गयी यह बात भी प्रधानमंत्री को नहीं बतायी गयी है। राज्य के विकास के संबंध में प्रधानमंत्री जी को नीति आयोग के आंकड़ों का संज्ञान भी ले लेना चाहिए था। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री को राज्य के बारे में पाँचों सांसद, बताने में असफल रहें हैं। उन्होंने कहा कि ग्रीन बोनस पर, आपदाग्रस्त 350 गांवों के विस्थापन, आपदा का लगभग पाँच हजार करोड़ रूपये का बकाय धनराशि पर प्रधानमंत्री की चुपी राज्य की जनता का अपमान है। जनसभा को कैशलेस करने में भाजपा असफल रही है। उन्होंने कहा कि राज्य को आर्थिक संसाधन देने के मुद्दे पर भी उनकी चुप्पी आश्चर्यजनक रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.