Breaking News Haridwar Latest News Uttarakhand Viral News

उत्तराखण्ड: करोडों के घोटाले में नामी संत पर ​लटकी गिरफ्तारी की तलवार, तीन अधिकारी गिरफ्तार

चंद्रशेखर जोशी।
उत्तराखण्ड के चर्चित छात्रवृत्ति घोटोल में चार नए कॉलेजों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। इन सभी कॉलेजों पर करीब 20 करोड रुपए के गबन का आरोप है। इन सभी के मालिक और संचालकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। ये मुकदमे, ज्वालापुर, कनखल, सिडकुल और कलियर थाने में दर्ज किए गए हैं। वहीं पुलिस आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास में जुट गई हैं इन कॉलेजों में से एक कॉलेज निंरजनी अखाडे द्वारा संचालित होता है। वहीं जांच कर रही एसआईटी ने तीन सहायक समाज कल्याण अधिकारियों को भी गिरफ्तार किया है। इन सभी पर घोटाले में कॉलेजों की मदद करने का आरोप है।

————
कौन से हैं कॉलेज
जिन कॉलेजों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है उनमें रामानंद इंस्टीट्यूट और फार्मेसी एंड मैनजमेंट ज्वालापुर हरिद्वार है जिसे निरंजनी अखाडा चलाता है। इसके नामी संत पहले भी चर्चा में रहे हैं। जिन पर अब गिरफ्तारी की तलवार लटक गई है। आरोप है कि कॉलेज ने 2011—12 से 2016—17 तक छात्रों के फर्जी एडमिशन के आधार पर करीब पांच करोड की छात्रवृत्ति हासिल कर ली। जबकि जांच में अधिकतर छात्र फर्जी निकले।

—————
स्वामी दर्शनानंद इंस्टीट्यूट आॅफ मैनजमेंट एंड टैक्नोलॉजी, कनखल हरिद्वार ने भी 2011—12 से 2016—17 तक फर्जी दस्तावेजों के आधार पर करीब पांच करोड रुपए का गबन किया। बताया जाता है कि ये कॉलेज एक बडे भाजपा नेता का है। जिस पर अब गिरफ्तारी की तलवार लटकी हुई हैं

—————
उत्तराटेक पॉलीटेक्टिन धनौरी कलियर
इस कॉलेज के मालिक के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया गया है। इन्होंने भी 2011—12 से 2016—17 तक करीब साढे तीन करोड का घोटाला किया।

——————
हिमाचल के कॉलेज ने भी डकारी छात्रवृत्ति
उत्तराखण्ड ही नहीं समाज कल्याण विभाग के अधिकारियों ने मिलकर हिमाचल के कॉलेज को भी करीब पांच करोड रुपए की छात्रवृत्ति बांट दी। जबकि हिमाचल में हरिद्वार के छात्र पढने नहीं जा सकते हैं। इतना ही नहीं कॉलेज Manav bharti Viswa Vidhalya Solan, Himachal Pradesh ने एक साल के छात्रवृत्ति एपलई की और विभाग ने सारे नियमों केा ताक पर रख कर तीन साल तक छात्रवृत्ति देता रहा।

——————
तीन अधिकारी गिरफ्तार
एसआईटी प्रमुख मंजूनाथ टीसी ने बताया कि घोटोल की जांच के दौरान तीन अधिकारियों को भी गिरफ्तार किया गया है। इनमें से दा रिटायर्उ हो चुके हैं जबकि एक वर्तमान में भगवान हरिद्वार में तैनात है। जो गिरफ्तार हुए हैं उनकी पहचान सोम प्रकाशर निवासी रूडकी हरिद्वार, मुनीष कुमार त्यागी निवासी गंगनहर रूडकी, विनोद कुमार नैथानी, देहरादून के तौर पर हुई है। सोमप्रकाश अभी भगवानपुर में तैनात है।

One Reply to “उत्तराखण्ड: करोडों के घोटाले में नामी संत पर ​लटकी गिरफ्तारी की तलवार, तीन अधिकारी गिरफ्तार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.