Latest News Nation

एनयूजे ने आपदा पर स्टेट्स रिपोर्ट के लिये वैज्ञानिक सहयोग मांगा

देहरादून। नेशनलिस्ट यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स (एनयूजे उत्तराखण्ड) ने राज्य में अतिवृष्टि, बादल फटने, भू-क्षरण और भू-स्खलन जैसी घटनाओं पर आपदा प्रभावित क्षेत्रों में पत्रकारों, विशेषज्ञों और वैज्ञानिकों का अध्ययन दल भेजकर स्टेटस रिपोर्ट और डाकूमेंट्री तैयार करने के क्रम में वाडिया हिमालय भूविज्ञान संस्थान से वैज्ञानिक सहयोग मांगा हैं। यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष त्रिलोक चन्द्र भट्ट के नेतृत्व में देहरादून स्थित वाडिया हिमालय भूविज्ञान संस्थान गये प्रतिनिधि मंडल ने आपदा के मुद्दों व जनहित में किये जाने वाले कार्यों पर विस्तार से यूनियन का दृष्टिकोण रखा। श्री भट्ट ने संस्थान के निदेशक प्रो. अनिल गुप्ता के निर्देश पर संस्थान के वरि. वैज्ञानिक डॉ. डी.पी. डोभाल के समक्ष एनयूजे का प्रस्ताव रखा। उन्होंने कहा कि जून-जुलाई-2016 में पिथौरागढ़ जनपद में अतिवृष्टि व बादल फटने से प्रभावित क्षेत्र बस्तड़ी, कुमालगोनी, उरमा, सिंघाली, पथारकोट, ओला, थल आदि कई क्षेत्रों में व्यापक क्षति हुई है। जिसके अध्ययन के लिये संस्था द्वारा उनके और हिमालयी पर्यावरण एवं पस्थितिकी तंत्र के जानकार वरि. पत्रकार डॉ. दिनेश जोशी के संयोजन में स्थानीय एनजीओ, ज्योलॉजिकल एक्सपर्ट्स, वैज्ञानिकों व पत्रकारों का अध्ययन दल भेज कर स्टेटस रिपोर्ट और एक डाकूकेंट्री बना कर केंद्र और राज्य सरकार के साथ-साथ पर्यावरण संरक्षण और आपद प्रबंधन से जुड़ी तमाम एजेसियों को कार्यवाही हेतु सौंपने का प्रस्ताव है। संस्थान के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. डी.पी. डोभाल ने एनयूजे उत्तराखण्ड के चिन्तन और कार्ययोजना पर सहमति जताते हुए उसे व्यापक जनहित में बताया। उन्होंने कहा कि देश और समाजहित में वाडिया हिमालय भूविज्ञान संस्थान हर प्रकार के सहयोग को तत्पर है। प्रतिनिधि मंडल में पत्रकार अरूण कुमार मोगा, सुनील शर्मा तथा प्रमोद कुमार शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.