Dehradun Latest News चुनावी जंग

‘अनिल बलूनी पहले ये बताएं कि मोदी सरकार ने राज्य का हक क्यों मारा’

प्रशांत शर्मा।
भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल बलूनी के ग्यारह सवालों के वार पर कांग्रेस की ओर से पलटवार किया गया है। प्रदेश प्रवक्ता मनीष कर्णवाल ने अनिल बलूनी से पूछा कि पहले ये बताएं कि केंद्र सरकार ने राज्य का एक हजार करोड से अधिक की बजट क्यों रोक रखा है। साथ ही ​पूर्व सीएम और हरिद्वार के सांसद रमेश पोखरियाल निशंक के कुंभ घोटाले के जवाब पर भी सवाल पूछा है।
मनीष कर्णवाल ने कहा कि प्रदेश के तेजी से बढ़ते विकास कार्यक्रमों व जन कल्याणकारी योजनाओं की बढ़ती लोकप्रियता को पचा नहीं पा रही है। इसलिये अपनी केन्द्र सरकार के माध्यम से बजट में प्राविधानित केन्द्रीय कोष की धनराशि को रोककर विकास को बाधित करने का कुचक्र रच डाला है।
चालू वित्तीय वर्ष में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन, मनरेगा, सीमांत क्षेत्र विकास परियोजना, सूखाग्रस्त क्षेत्र विकास कार्यक्रम एवं पी0एम0जी0एस0वाई0 जैसी केन्द्र साहयतित योजनाओं में केन्द्र सरकार को अपने हिस्से के करोडो रूपये बकाया इसके बावजूद भाजपा के नेता वास्तविक तथ्यों को छुपाकर जनता को गुमराह करने का प्रयास कर रहे हैं। भाजपा नेताओं का यह दावा है कि उत्तराखण्ड केे साथ कोई भेदभाव नहीं किया जा रहा है यह सत्य से परे हैं। इसकेे अलावा समाज कल्याण के अन्तर्गत अनुसूचित जाति एवं जनजाति के बच्चों को दी जाने वाली छात्रवृत्ति के अन्तर्गत दी जाने वाली केन्द्र के हिस्से की धनराशि में भी जारी करने में रोड़े डाले जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि सीबीआई का दुरूपयोग कर कांग्रेस के नेता व प्रदेश के मुख्यमंत्री हरीश रावत को परेशान कर डराने का असफल प्रयास करने वाले लोगो न कैग की रिपोर्ट कुंभ मेले में हुए घोटाले पर आज तक कोई जवाब नहीं दिया है। उन्होंने कहा कि संयुक्त संघर्ष समिति की अध्यक्षता करते हुए राज्य निर्माण मै अहम भूमिका निभा चुके हरीश रावत जी पर बलूनी जी का सवाल निहायत ही बचकाना है इस से बलूनी जी का राज्य निमार्ण के समय योगदान भी अपने आप सिद्ध हो जाता है। दूसरी तरफ बीजेपी के नेता व पूर्व मुख्यमंत्री जी भी अपने आप को राज्य आंदोलनकारी सिद्ध करने का असफल प्रयास कर चुके है जो प्रदेश की जनता भली भांति वाकिफ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.