Haridwar Latest News Viral News

‘अव्यवस्था दूर करने के लिए हरकी पैडी का अधिग्रहण जरूरी’

एसएन चौधरी।
हरकी पैडी सहित मंसा देवी और चंडी देवी मंदिरों का अधिग्रहण किए जाने की मांग उठा रहे सामाजिक कार्यकर्ता जेपी बडोनी ने कहा कि हरकी पैडी, मंसा देवी और चंडी देवी मंदिर की व्यवस्था सरकार के अधीन होनी चाहिए। तभी इन विश्व प्रसिद्ध स्थलों पर भक्तों के साथ होने वाली ‘लूट’ को रोका जा सकेगा। उन्होंने अखिल भारतीय तीर्थ पुरोहित महासभा की उस मांग पर भी आपत्ति जताई जिसमें मंदिरों को सरकारी प्रभाव से अलग रखने की मांग उठाई गई थी। गौरतलब है कि महासभा की दो दिवसीय बैठक हरिद्वार में हो रही है। इसमें देश भर के पुरोहित जुटे हैं और सरकार द्वारा मंदिरों के हो रहे अधिग्रहण पर इसमें चर्चा की जा रही है। तीर्थ पुरोहितों का साफ कहना है कि अधिग्रहण को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। लेकिन जेपी बडोनी सरकारी अधिग्रहण में कुछ गलत नहीं मानते हैं। जेपी बडोनी ने बताया कि हरकी पैडी और मंदिर निजी संपत्ति नहीं है। ये हिंदुओं की धार्मिक आस्था के स्थान है। लेकिन यहां भक्तों की आस्था के साथ खिलवाड हो रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार इसका अधिग्रहण कर लेगी तो यहां व्यवस्था बेहतर हो जाएगी। इसके लिए प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कोर्ट में कानूनी लडाई जारी है और हमें इसमें विजय मिलेगी। हम भक्तों से होने वाली परेशानी को खत्म कराकर ही मानेंगे। क्योंकि इन धार्मिक स्थानों का​ निजी संस्थाएं लाभ कमाने के लिए प्रयोग कर रही है। उन्होंने ये भी कहा कि राज्य विधि आयोग ने श्राइन बोर्ड बनाने की रजामंदी दी है। इसमें जल्द ही कोर्ट से फैसला आने की उम्मीद है।
वहीं तीर्थ पुरोहित इसका लगातार विरोध करते आ रहे हैं। तीर्थ पुरोहितों का तर्क है कि पुरोहितों की संस्थाएं सीधे तौर पर भक्तों से जुडी है और तीर्थ स्थानों पर उनका ही हक बनता है। सरकार सिर्फ व्यवस्था कर सकती है लेकिन प्रबंधन तीर्थ पुरोहितों के हाथ में ही होना चाहिए।

One Reply to “‘अव्यवस्था दूर करने के लिए हरकी पैडी का अधिग्रहण जरूरी’

  1. Pehle city ka management kar lo wahi badi baat ….
    Jante hi kya ho sanatan dharm ko tum bewede log
    Bas naukri ni mili hogi Uttarakhand ban ne ke baad rishtedaaroo ko bharti karana hoga …
    Habsiii ….
    Harami murkh…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.