Jyotish Latest News

गायत्री विद्यापीठ के दस विद्यार्थियों को मिला राष्ट्रपति पुरस्कार

f3f64ed5-5f08-47a2-ae9a-e89933370b4b

हरिद्वार

देवभूमि के कुंभनगरी हरिद्वार स्थित गायत्री विद्यापीठ के दस विद्यार्थियों को सन् २०१४-१५ के लिए स्काउट गाइड केक्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए राष्ट्रपति पुरस्कार मिला है। इनमें गाइड्स- सावित्री पटैय्या, मनु काजला, श्रेया दूबे, समीक्षावर्मा, अदिति तथा स्काउट्स- चिन्मय गुरुवंश, आदित्य मण्डल, प्रबल रावत, अंकित रावत, रजत विश्नोई शामिल हैं। इनविद्यार्थियों ने पिछले कई सालों से स्काउट-गाइड के विभिन्न सोपानों के प्रशिक्षण में उत्कृष्ट स्थान प्राप्त किये थे।गाइड्स की गदपुरी, हरियाणा तथा स्काउट्स का नेशनल ट्रेंनिंग सेंटर दिल्ली में विशेष जांच शिविर हुआ, जहाँ से इनविद्यार्थियों का चयन राष्ट्रपति पुरस्कार के लिए किया गया था। यहाँ बताते चलें कि सावित्री पटैय्या इन विद्यार्थियों केप्रतिनिधि के रूप में राष्ट्रपति भवन पुरस्कार लेने पहुँची थी।

राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त विद्यार्थियों ने गायत्री परिवार के अभिभावकद्वय आदरणीय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी एवंआदरणीया शैलदीदी ने भेंट कर आशीष लिया। इस अवसर पर आदरणीय डॉ. पण्ड्या जी ने कहा कि पूर्ण मनोयोग से कियेगये कार्यों से सफलता अवश्य मिलती है। छोटे-छोटे बच्चों के समर्पण भाव, मेहनत एवं उनके आचार्यों की लगन से ही यहसंभव हो पाया। कहा कि स्काउट का अर्थ अुनशासनों को स्वयं पालन करना और दूसरों को इस दिशा में जागरुक करना है।उन्होंने कहा कि इससे देश सेवा हेतु मानसिक दृढ़ता पैदा होती है। स्काउट-गाइड देश प्रेम जगाने की उत्तम संस्था है।संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदी ने मेहनत किसी भी कार्य की सफलता के लिए सबसे अहम है, इसलिए मेहनत से जी नहींचुराना चाहिए। उन्होंने विद्यार्थियों को मिठाई भी खिलाई।

स्काउट-गाइड उत्तराखण्ड के चौदहवाँ जिला के रूप में मान्यता प्राप्त युग निर्माण स्काउट गाइड शांतिकुंज केसंरक्षक श्री गौरीशंकर शर्मा जी ने इन विद्यार्थियों की सफलता से खुशी जाहिर की। साथ ही जिला प्रशिक्षण आयुक्त श्रीगेंदालाल चौरसिया, उपप्रधानाचार्य श्री भास्कर सिन्हा, स्काउट गाइड प्रशिक्षक श्री सीताराम सिन्हा सहित विद्यापीठ वशांतिकुंज परिवार ने भी प्रसन्नता व्यक्त की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.