Breaking News Latest News Viral News

ये है डबल इंजन सरकार, खुले आसमान के नीचे पढने को बच्चे लाचार, देखें वीडियो

चंद्रशेखर जोशी, हरिद्वार।
हरिद्वार जनपद के प्राथमिक स्कूलों का बुरा हाल है। कहीं शिक्षकों की कमी से बच्चे दो चार हो रहे हैं तो कहीं बच्चों को जजर्र इमारतों में पढने को मजबूर होना पड रहा है। लेकिन, हरिद्वार के ज्वालापुर में एक ऐसा सरकारी प्राथमिक स्कूल हैं जहां बच्चे खुले आसमान के नीचे पढने को मजबूर हैं। ज्वालापुर के मौहल्ला मंडी का कुआं प्राथमिक स्कूल नंबर पांच बारिश होने पर इन बच्चों को छुट्टी कर दी जाती है जबकि धूप आने पर बच्चों को छांव तलाशनी पडती हैं। बच्चों का आसरा सिर्फ स्कूल परिसर में खडा एक पेड हैं जिसकी छांव बच्चों के लिए किसी रहमत से कम नहीं है। वहीं करीब दो सौ बच्चों पर एक अध्यापक से काम चलाया जा रहा है। इन बच्चों के अच्छे दिन ना तो कांग्रेस की सरकार ला पाई और ना ही भाजपा के डबल इंजन सरकार ही कुछ कर पा रही है। लिहाजा, बच्चे खुले आसमान के नीचे पढने को लाचार हैं। जहां सरकार को भी निजी स्कूलों में पढने वाले बच्चों की सुरक्षा की चिंता है लेकिन सरकारी स्कूलों के हालात बदलने को लेकर सोचने का वक्त सरकारों के पास नहीं है।

 

 


……………
टॉयलेट में नहीं है पानी
सरकारी स्कूल में टॉयलेट सिर्फ एक हैं और उसमें भी पानी नही है। पानी बाहर से लाना होता है। इसके अलावा लडके, लडकियों और मास्टरों के लिए एक ही टॉयलेट है। वो भी खस्ताहाल में है और साफ—सफाई की व्यवस्था भी नहीं है।

 

read this nes also

लक्सर एसडीएम के पेशकार का पैसे लेते हुए वीडियो वायरल, जांच के आदेश 

 

 


………………
क्या कहता है शिक्षा विभाग
जिला शिक्षा अधिकारी एचबी सैनी ने बताया कि नगर क्षेत्र में चल रहे सरकारी स्कूल प्राइवेट बिल्डिंगों में हैं इन इमारतों में निर्माण करने का हमारा कोई अधिकार नहीं है। इनको कहीं ओर शिफ्ट भी नहीं किया जा सकता है। ये स्कूल पिछले पचास सालों से चल रहे हैं। हालांकि बरसात के समय कुछ स्कूलों के बच्चों को सु​रक्षित स्थानों पर शिफ्ट कर दिया जाता है। सरकार कोई फैसला ले तो तभी कुछ हो सकता है।

 

 

One Reply to “ये है डबल इंजन सरकार, खुले आसमान के नीचे पढने को बच्चे लाचार, देखें वीडियो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.