चुनावी जंग

बाल्मिकी सम्मेलन से निकली ज्वालापुर विधानसभा में उम्मीद की ‘किरण’

चंद्रशेखर जोशी।
बाल्मिकी महासम्मेलन भले ही रानीपुर विधानसभा के ज्वालापुर में हुआ हो लेकिन इस कार्यक्रम के जरिए निशाना विधानसभा ज्वालापुर पर लगाया गया। बाल्मिकी समाज के लिए सीएम हरीश रावत के प्यार पर बज रही तालियों के साथ ही सफाई कर्मचारी आयोग के अध्यक्ष किरण पाल बाल्मिकी की उम्मीद ज्वालापुर से उम्मीदवार बनने को लेकर जगती रही। आपको बता दें कि किरण पाल बाल्मिकी ज्वालापुर विधानसभा से टिकट मांग रहे हैं।
प्रदेश स्तरीय बाल्मिकी सम्मेलन में कई नेता पहुंचे थे। सीएम हरीश रावत ने बाल्मिकी समुदाय की महिलाओं के लिए कई योजनाओं की घोषणा की। सीएम हरीश रावत ने कहा कि सफाई कर्मी की अकाल मुत्यु होने पर उनके आश्रितों को नोकरी दी जायेगी। सफाई कर्मचारी महिलाओं को मातृत्व अवकाश दिया जायेगा। राज्य सरकार ने मलिन बस्तियों के नियमितीकरण का फैसला किया है। जिसके लिए नियमावली भी बन चुकी है। जिसके लिए बाल्मीकि बस्ती की समस्याओं के समाधान के लिए भी अलग से योजना बनाई जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि 2017-18 में 02 बाल्मीकि आवासीय विद्यालय बनाये जायेंगे। कहा कि सफाई कर्मचारियों के बच्चों के लिए विशेष छात्रवृत्ति देने की योजना भी बनाई जा रही है। हर गरीब के स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या के समाधान के लिए मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना चलाई गई है। सफाई कर्मचारी आयोग के अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री को बाल्मीकि समाज की समस्याओं के सम्बन्ध में मांग पत्र दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी मांगों पर गहनता से विचार किया जायेगा और समाधान निकाला जायेगा। भगवान बाल्मीकि के नाम पर धर्मशाला बनाने की मांग पर मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी को जमीन तलाशने को कहा और कहा कि यदि जमीन मिल जाती है तो इस कार्य को पूर्ण करने का प्रयास किया जायेगा।

कार्यक्रम में अधिकतर भीड़ भी ज्वालापुर विधानसभा सीट से ही थी। लिहाजा, ज्वालापुर में किरण बालिमकी को टिकट मिला तो इसका फायदा उन्हें ही होगा। बहरहाल टिकट के दावेदार और भी हैं और किरण बाल्मिकी के लिए ​टिकट पाना आसान नहीं होगा। फिर भी किरण पाल बाल्मिकी ने कार्यक्रम में भीड़ जुटाकर खुद की दावेदारी मजबूत करने का प्रयास जरूर किया है।

One Reply to “बाल्मिकी सम्मेलन से निकली ज्वालापुर विधानसभा में उम्मीद की ‘किरण’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.